पत्नी पर कमेंट करना बन सकता है अलग रहने का आधार: HC

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई के दौरान कहा कि पत्नी पर टिप्पणी करना, उसे घर छोड़ने पर मजबूर करना और अपने बच्चे से लंबे समय तक ना मिलने देना पत्नी के अलग रहने का अधार बन सकता है।

पत्नी पर कमेंट करना बन सकता है अलग रहने का आधार: HC

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई के दौरान कहा कि पत्नी पर टिप्पणी करना, उसे घर छोड़ने पर मजबूर करना और अपने बच्चे से लंबे समय तक ना मिलने देना पत्नी के अलग रहने का अधार बन सकता है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक हाई कोर्ट एक महिला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। महिला ने पति की तलाक की अर्जी स्वीकार करने के संबंध में निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी थी। हाई कोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को रद्द कर दिया।

इसके साथ ही महिला की ओर से पति के खिलाफ दर्ज कराया गया दहेज प्रताड़ना का मामला अभी भी चल रहा है। महिला अपने और अपनी बेटी के लिए गुजारा भत्ता सुरक्षित करने के लिए आगे की कार्रवाई कर सकती है।

हाई कोर्ट ने  कहा कि महिला के पति ने उसे घर छोड़ने पर मजबूर किया। महिला को अपनी छोटी सी मासूम बेटी के साथ इधर-उधर ठोकरें भी खानी पड़ीं। कोर्ट ने कहा पति अपनी पत्नी के साथ मारपीट और गाली-गलौच भी करता था। जिससे साफ पता चलता है कि पत्नी हिंसा का शिकार हुई है। यह बिल्कुल सही है कि महिला पति से लंबे समय से अलग रह रही थी क्योंकि उसके पति ने ऐसा करने पर मजबूर किया था, लेकिन वह अपनी शादी तोड़ना नहीं चाहती है।

वहीं पति ने आरोप लगाया था कि उसकी पत्नी ने बिरादरी पंचायत में सबके सामने उसे थप्पड़ मारा था और उसे खाना बनाकर भी नहीं देती थी। जिसकी वजह से वह काफी समय से अपने मायके में रही है। इसलिए उसे तलाक दे दिया जाए।