US: राष्ट्रपति ओबामा की आखिरी स्पीच, कहा-पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा असर हमारा

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज शिकागो में आखिरी स्पीच दिया। इस दौरान वे भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा असर हमारा है न कि चीन-रूस का।

US: राष्ट्रपति ओबामा की आखिरी स्पीच, कहा-पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा असर हमारा

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज शिकागो में आखिरी स्पीच दिया। इस दौरान वे भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा असर हमारा है न कि चीन-रूस का।

उन्होंने कहा कि घर आकर अच्छा लग रहा है। आगे उन्होंने कहा कि बदलाव तभी होता है जब आम आदमी इससे जुड़ता है। आम आदमी ही बदलाव लाता है। उन्होंने कहा कि हर रोज मैंने लोगों से कुछ न कुछ सीखा। हमारे देश के निर्माताओं ने हमें अपने सपने पूरे करने के लिए आजादी दी। हमारी सरकार ने यह प्रयास किया कि सबके पास आर्थिक मौका हो। हमने यह भी प्रयास किया कि अमेरिका हर चैलेंज का सामना करने के लिए तैयार रहे।

रंगभेद के मुद्दे पर अपने विचार रखते हुए राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि अब स्थिति में काफी सुधार हुआ है। पहले जैसे हालात अब नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि रंगभेद अभी भी समाज का एक विघटनकारी तत्व है। इसे खत्म करने के लिए लोगों के हृदय परिवर्तन की जरूरत है, सिर्फ कानून से काम नहीं चलेगा। अपने आखिरी संबोधन में उन्होंने कहा कि पिछले 8 सालों में एक भी विदेशी आतंकी हमला नहीं हुआ। अमेरिका पर हमला करने वाला कोई भी सुरक्षित नहीं रह सकता। साथ ही उन्होंने कहा कि अमेरिकी जनता से अपील है की कि अमेरिकी मुस्लिमों के खिलाफ किसी प्रकार के भेदभाव को साफ तौर पर नकार दें।

स्पीच के दौरान राष्ट्रपति ओबामा भावुक हो गए। यह देख उनकी बेटी और पत्नी मिशेल की आंखों में भी आंसू भर गए। ओबामा ने कहा कि वे अपने परिवार की वजह से अच्छे राष्ट्रपति बन सके। उन्होंने कहा कि लोगों के संदेश से मिशेल और मैं काफी भावुक हुए। शिकागो में लोगों को संबोधित करते हुए ओबामा ने कहा कि घर आकर अच्छा लग रहा है। आज मेरे लिए सबको धन्यवाद देने का दिन है। राष्ट्रपति के तौर पर आठ साल में मैंने जनता से किए सारे वादे पूरे किए। 10 दिनों में यहां सत्ता हस्तांतरण होगा। लोगों की वजह से अमेरिका एक मजबूत और बेहतर राष्ट्र बना है। मैंने राजनीति में पैसे के बढ़ते असर को कम किया

उन्होंने कहा कि व्यापार में केवल खुलापन ही नहीं होना चाहिए बल्कि वह न्यायसंगत भी होना चाहिए। अगर हम सबके लिए मौके उपलब्ध नहीं कराएंगे तो भविष्य में दिक्कत ही पैदा होंगी। अगर हम अप्रवासियों के बच्चों में निवेश नहीं करेंगे तो हम अपने बच्चों का भविष्य खऱाब करेंगे। पिछले 8 सालों में एक भी विदेशी आतंकी हमला नहीं हुआ। पिछले सालों में सभी वर्गों की आय में समान वृद्धि हुई।

उल्लेखनीय है कि हाल में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनावों में डेमोक्रैट्स को हार का सामना करना पड़ा था और रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने जीत दर्ज की थी। डेमोक्रैट्स की ओर से हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार थीं। ज्ञात हो कि इस महीने की 20 तारीख को ओबामा का व्हाइट हाउस में आखिरी दिन होगा।