अमेरिका: डाेनाल्ड ट्रंप काे न्यूयार्क काेर्ट से झटका, कहा- यहीं रहेंगे शरणार्थी

अमेरिकी राष्ट्रपति डाेनाल्ड ट्रंप के कार्यकारी आदेश के तहत सात मुसलमान बहुल देशों के लोगों को हिरासत में लिए जाने पर न्यू यॉर्क के एक जज ने रोक लगा दी है।

अमेरिका: डाेनाल्ड ट्रंप काे न्यूयार्क काेर्ट से झटका, कहा- यहीं रहेंगे शरणार्थी

अमेरिकी राष्ट्रपति डाेनाल्ड ट्रंप के कार्यकारी आदेश के तहत सात मुसलमान बहुल देशों के लोगों को हिरासत में लिए जाने पर न्यू यॉर्क के एक जज ने रोक लगा दी है। बताया जा रहा है कि ट्रंप ने अपने कार्यकारी आदेश में सात मुस्लिम बहुल देशों के शरणार्थियों और पर्यटकों पर अस्थाई प्रतिबंध लगा दिया था। वहीं पर ट्रंप के इस आदेश के खिलाफ द अमरीकन सिविल लिबर्टीज़ यूनियन (एसीएलयू) ने इस आदेश के ख़िलाफ़  बीते शनिवार को याचिका दायर की थी।

अंतरराष्ट्रीय मीडिया के अनुसार एसीएलयू का कहना है कि ट्रंप के आदेश के बाद हिरासत में लिए गए लोगों को अब वापस नहीं भेजा जा सकेगा। समूह का अनुमान है कि ट्रंप के आदेश के बाद से क़रीब 100-200 लोगों को विभिन्न एयरपोर्टों पर हिरासत में लिया गया है। डोनल्ड ट्रंप के प्रवासियों के ख़िलाफ़ सख़्त क़दम उठाने के बाद अमरीका के कई हवाई अड्डों पर प्रदर्शन हुए हैं।

इमिग्रेंट्स राइस्ट प्रोजेक्ट के डिप्टी लीगल डायरेक्टर ली गेलेंर्ट ने अदालत में मानवाधिकार समूहों का पक्ष रखा। फ़ैसले के बाद उत्साही भीड़ ने अदालत के बाहर उनका स्वागत किया।

उन्होंने लोगों को बताया, "जज ने सरकार जो कर रही है उसे देखा और हम जो चाहते थे हमें वो दिया। हम ट्रंप के आदेश पर और सरकार के ऐसे लोगों को हिरासत में लेने पर रोक चाहते थे जो आए थे और देशभर में इस आदेश से फंस गए थे। उन्होंने बताया कि जज ने हिरासत में लिए गए सभी लोगों की सूची भी सरकार से मांगी है। अदालत अब फ़रवरी के अंत में इस मामले में अगली सुनवाई करेगी। हांलाकि बीते शनिवार को ट्रंप ने कहा था कि उनका आदेश मुसलमानों पर प्रतिबंध नहीं हैं।