उत्तराखंड: भागीरथी मास्टर प्लान के खिलाफ हरीश रावत का धरना

मुख्यमंत्री हरीश रावत के नेतृत्व में प्रदेश कांग्रेस के नेता केंद्र सरकार के भागीरथी मास्टर प्लान के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। इस दौरान रावत संकेतिक भूख तड़ताल भी करेंगे।

उत्तराखंड: भागीरथी मास्टर प्लान के खिलाफ हरीश रावत का धरना

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत के नेतृत्व में प्रदेश कांग्रेस के नेता केंद्र सरकार के भागीरथी मास्टर प्लान के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। कांग्रेस के इस प्रदर्शन में हरीश रावत भी शामिल होंगे। इस दौरान वह संकेतिक भूख तड़ताल भी करेंगे।

गौरतलब है कि केंद्र की एनडीए सरकार ने भागीरथी मास्टर प्लान के प्रस्तावों में गोमुख से शुरू हो रहे पूरे इलाके को पारिस्थितिकी के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र घोषित किया है। इसके अनुसान अब इस इलाके में कोई पनबिजली या फिर खदान परियोजना की अनुमति नहीं होगी, जिसे लेकर राज्य सरकार को अपत्ति है। राज्य सरकार का कहना है कि केंद्र के इस फैसले से उस क्षेत्र के लोगों को भारी वित्तीय नुकसान होगा।

वहीं, पांच राज्यों में अगले महीने शुरू होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए तैयारियों में जुटी कांग्रेस पार्टी को पूर्व सैनिकों का समर्थन मिलता दिख रहा। पंजाब और उत्तराखंड में सेना एवं अर्धसैनिक बलों के रिटायर्ड कर्मियों की अच्छी खासी आबादी है, ऐसे में उनका कांग्रेस के साथ जुड़ने से आगामी विधानसभा चुनावों में पार्टी को फायदा होने की उम्मीद है।

दरअसल, कांग्रेस की तरफ से गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाएगी, जहां उसे फौजी जनता पार्टी के मेजर सतबीर सिंह सभी चुनावों में कांग्रेस पार्टी को समर्थन देने की आधिकारिक घोषणा करेंगे। पूर्व सैनिकों के इस समर्थन की अहमियत का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कैप्टन अमरिंदर सिंह, वीरभद्र सिंह और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत भी शामिल होंगे।