अमेरिका: डोनाल्ड ट्रंप को बचाकर हिलेरी को किया रूसी एजेंसियों ने बदनाम

2016 में खत्म हुए अमेरिकी चुनाव काफी विवादों भरा रहा। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बारे में उनके राजनीतिक विरोधियों और विश्लेषकों का ये मत रहा कि उन्हें रूस की तरफ से मदद मिलती रही...

अमेरिका: डोनाल्ड ट्रंप को बचाकर हिलेरी को किया रूसी एजेंसियों ने बदनाम

2016 में खत्म हुए अमेरिकी चुनाव काफी विवादों भरा रहा। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बारे में उनके राजनीतिक विरोधियों और विश्लेषकों का ये मत रहा कि उन्हें रूस की तरफ से मदद मिलती रही। ट्रंप की विरोधी रहीं हिलेरी क्लिंटन ने भी कहा था कि उनके खिलाफ जितने भी दुष्प्रचार हुए उसमें रूस की भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ट्रंप की व्यक्तिगत और कारोबार के बारे में रूस सालों से जानकारियां इकठ्ठा कर रहा था। इसके अलावा रूस ने समय समय पर ट्रंप की मदद भी की। लेकिन ट्रंप ने कहा कि ये एक राजनीतिक दुष्प्रचार से ज्यादा कुछ भी नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ खास लोग हमेशा से कोशिश में लगे रहे कि उन्हें राष्ट्रपति पद की कुर्सी नसीब न हो।

बता दें कि एक खुफिया अधिकारी के मुताबिक रूस के पास हिलेरी क्लिंटन और ट्रंप दोनों के बारे में जानकारी थी। लेकिन रूस ने एक एजेंडा के तहत सिर्फ हिलेरी के बारे में सूचनाओं को सार्वजनिक किया। अमेरिकी खुफिया अधिकारियों का मानना है कि जिस तरह से रूस ने ट्रंप के बारे में जानकारियों को लीक नहीं किया उससे साफ है कि उनकी भावना ट्रंप को मदद पहुंचाने की थी।

गौरतलब है कि बज फीड नाम की एक मशहूर साइट में करीब 36 पेज के दस्तावेजों का जिक्र है जिसमें ये बताया गया है कि वर्षों से रूस की खुफिया एजेंसी ट्रंप और हिलेरी के बारे में जानकारियां इकठ्ठा कर रही थीं। लेकिन एक खास एजेंडे के तहत रूस ने सिर्फ हिलेरी के बारे में जानकारियों को साझा किया। इसके अलावा कुछ ऐसे दस्तावेज भी सामने आए हैं जिससे साफ होता है कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने साफ निर्देश दिए थे कि ट्रंप को चुनावी अभियान संचालित करने में किसी तरह की दिक्कत नहीं आनी चाहिए।