एयरो इंडिया 2017: वायुसेना मे शामिल हुआ "नेत्र" बचके रहना दुश्मन

एशिया का सबसे बड़े शो 'एयरो इंडिया' का मंगलवार को शुभारंभ हो गया| एयरो इंडिया-2017 शो पांच दिनों तक चलेगा। इस दौरान स्वदेशी एयरबोर्न अर्ली वॉर्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम (नेत्र) को वायुसेना में शामिल कर लिया गया है।

एयरो इंडिया 2017: वायुसेना मे शामिल हुआ "नेत्र" बचके रहना दुश्मन

एशिया का सबसे बड़े शो 'एयरो इंडिया' का मंगलवार को शुभारंभ हो गया| एयरो इंडिया-2017 शो पांच दिनों तक चलेगा| मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दौरान स्वदेशी एयरबोर्न अर्ली वॉर्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम (नेत्र) को वायुसेना में शामिल कर लिया गया है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक नेत्र के विकास में महिला वैज्ञानिकों ने अहम भूमिका निभाई है। पिछले एक दशक की उनकी मेहनत रंग लाई है। इस सिस्टम का विकास महिला वैज्ञानिक जे मंजुला की अगुवाई में डीआरडीओ प्रयोगशाला में किया गया है। वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने इसके लिए महिला वैज्ञानिकों का प्रशंसा की है। इसके साथ ही केंद्रीय रक्षा मंत्री ने भी महिला वैज्ञानिकों की तारीफ की है।

नेत्र दुश्मन के प्रक्षेपास्त्र औऱ विमान को जमीन, समुद्र और आकाश में 200 किमी के दायरे में खोज निकालने में सक्षम है। वहीं कार्यक्रम में केंद्रीय रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने हिंदुस्सातन एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के भारतीय मल्टीरोल हेलिकॉप्टर (IMRH) का भी अनावरण किया।

एचएएल का लक्ष्य स्वदेश में 12 टन का IMRH विकसित करने का है। 24 सीटों वाला यह हेलिकॉप्टर करीब 20,000 फीट की ऊंचाई तक उड़ सकता है। यह 35,00 किग्रा भार ले जाने में सक्षम है। हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल सैन्य ट्रांसपोर्ट, राहत एवं बचाव कार्य, लड़ाई के दौरान, वीवीआईपी/वीआईपी को ले आने-जाने और एंबुलेंस के तौर पर काम में लाया जा सकता है।