उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के बाद हड़कंप, UN में बैठक बुलाने की मांग

उत्तर कोरिया ने सोमवार को इस बात की पुष्टि की है कि उसने एक बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। इस बीच, अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने सुरक्षा परिषद से उत्तर कोरिया पर बैठक का अनुरोध किया है।

उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के बाद हड़कंप, UN में बैठक बुलाने की मांग

उत्तर कोरिया ने सोमवार को इस बात की पुष्टि की है कि उसने एक बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। इस बात काे उत्तर कोरिया की ओर से अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए एक ललकार के रूप में देखा जा रहा है। इस बीच, अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने सुरक्षा परिषद से उत्तर कोरिया पर बैठक का अनुरोध किया है।

अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपाेर्टस के मुताबिक कोरियाई शैली की नई रणनीतिक हथियार प्रणाली के बारे में कहा कि सतह से सतह पर मार सकने वाली एक मध्यम से लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल पुकगुकसोंग-2 का बीते रविवार को सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया गया। बता दें कि इससे पहले दक्षिण कोरियाई रक्षा मंत्रालय ने रविवार को कहा था कि मिसाइल को उत्तरी प्योंगन के पश्चिमी प्रांत स्थित बांघयोन एयरबेस से प्रक्षेपित किया गया है, यह जापान सागर (पूर्वी सागर) की ओर उड़ी थी।

रिपोर्ट में कहा गया कि उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन ने इस परीक्षण की तैयारियों का खुद दिशानिर्देशन किया। खबराें में कहा गया कि किम ने एक अन्य शक्तिशाली परमाणु हमले के सफल परीक्षण पर अत्यधिक संतुष्टि जाहिर की है, इस हमले का अर्थ है कि देश की ताकत में भारी इजाफा हुआ है।

अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से अनुरोध किया है कि वह उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण पर चर्चा करने के लिए एक आपात बैठक बुलाए। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से कार्यभार संभाले जाने के बाद यह पहला परीक्षण है, उत्तर कोरिया की ओर से बैलिस्टिक मिसाइल के सफल परीक्षण की पुष्टि किए जाने के बाद सोमवार को परिषद द्वारा वार्ता आयोजित किए जाने की संभावना है।

अमेरिकी मिशन के एक प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका ने जापान और कोरियाई गणतंत्र के साथ मिलकर यह अनुरोध किया है कि उत्तर कोरिया द्वारा 12 फरवरी को किए गए बैलिस्टिक मिसाइल के प्रक्षेपण पर आपात वार्ता आयोजित की जाए। उन्होंने कहा कि यह बैठक दोपहर के समय आयोजित की जा सकती है। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उत्तर कोरियाई मिसाइल समुद्र में गिरने से पहले लगभग 500 किमी तक की दूरी तक गई थी। सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने इसे कोरियाई शैली की नई रणनीतिक हथियार प्रणाली बताते हुए कहा कि सतह से सतह तक मारने में सक्षम मध्यम से लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का कल सफलतापूर्वक प्रायोगिक परीक्षण किया गया। इस परीक्षण को ट्रंप की प्रतिक्रिया की परीक्षा के तौर पर भी देखा जा रहा है।