मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का तीन देशों ने रखा प्रस्ताव, चीन ने किया विराेध

पठानकाेट हमले के मास्टरमाइंड आैर पाकिस्तान स्थित संगठन जैश-ए- माेहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर काे वैश्विक आंतकी घाेषित करने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बढ़ाते हुए ब्रिटेन और फ्रांस के साथ अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र का रुख किया, मगर चीन ने फिर इसका विरोध कर दिया है।

मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का तीन देशों ने रखा प्रस्ताव, चीन ने किया विराेध

पठानकाेट हमले के मास्टरमाइंड आैर पाकिस्तान स्थित संगठन जैश-ए- माेहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर काे वैश्विक आंतकी घाेषित करने के लिए पाकिस्तान पर दबाव बढ़ाते हुए ब्रिटेन और फ्रांस के साथ अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र का रुख किया, मगर चीन ने फिर इसका विरोध कर दिया है। मसूद को यूएन द्वारा प्रतिबंधित किये जाने के भारत के प्रयास को चीन द्वारा ‘ब्लॉक’ किये जाने के महज कुछ सप्ताह बाद अमेरिका द्वारा लाये गये प्रस्ताव को भी चीन ने ‘स्थगित’ कर दिया। इसके बाद भारत ने इस मुद्दे को चीन के समक्ष उठाया।

मीडिया रिपाेर्टस के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों ब्रिटेन और फ्रांस के समर्थन के साथ अमेरिका ने अजहर को प्रतिबंधित करने के लिए पिछले महीने के दूसरे पखवाड़े में संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध समिति 1267 के समक्ष प्रस्ताव पेश किया। वाशिंगटन व नयी दिल्ली के बीच विचार-विमर्श के बाद इस प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया गया था। इस बीच, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि हमें इसकी जानकारी है। मामले को चीनी सरकार के समक्ष उठाया गया है।

उल्लेखनीय है कि अमेरिकी प्रयास का विरोध कर चीन ने प्रस्ताव को स्थगित कर अमेरिकी कदम का विरोध किया है। यूएन अधिकारियों के मुताबिक, किसी भी प्रस्ताव को छह माह के लिए स्थगित किया जा सकता है। इसकी मियाद तीन और माह के लिए बढ़ायी जा सकती है। इस दौरान कभी प्रस्ताव को ब्लॉक किया जा सकता है, जिसके साथ ही कोई भी प्रस्ताव खत्म हो जाता है।

ज्ञात हाे कि चीन यूएन द्वारा अजहर को प्रतिबंधित किये जाने के प्रयासों का लगातार विरोध करता रहा है। मसूद पर 2001 में यूएन ने बैन लगा दिया था। पठानकोट हमले के बाद भारत ने फरवरी में अजहर के खिलाफ कार्रवाई की मांग थी। चीन ने दिसंबर में भारतीय प्रस्ताव को ब्लॉक करने से पहले दो बार इसे तकनीकी रूप से स्थगित किया।