तमिलनाडु: मुख्यमंत्री पद से कट सकता है पन्नीरसेल्वम का पत्ता, शशिकला बन सकती हैं सीएम

तमिलनाडु में जयललिता के निधन के बाद से ही राजनीति गर्माया हुई है। वहां के बदलते हालातों के बीच एक चर्चा ये भी है कि जल्द ही मौजूदा मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम की बहुत जल्द पद से छुट्टी हो सकती है...

तमिलनाडु: मुख्यमंत्री पद से कट सकता है पन्नीरसेल्वम का पत्ता, शशिकला बन सकती हैं सीएम

तमिलनाडु में जयललिता के निधन के बाद से ही राजनीति गर्मायी हुई है। वहां के बदलते हालातों के बीच एक चर्चा ये भी है कि जल्द ही मौजूदा मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम की बहुत जल्द पद से छुट्टी हो सकती है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही सत्ताधारी एआईएडीएमके की महासचिव वी के शशिकला पन्नीरसेल्वम को हटाकर खुद मुख्यमंत्री बन सकती हैं। दरअसल, एआईएडीएमके पार्टी में उपजे सत्ता विवाद को सुलझाना चाहता है। माना जा रहा है कि रविवार को होने वाली पार्टी बैठक में यह ऐलान किया जा सकता है और पन्नीरसेल्वम की जगह शशीकला को दी जा सकती है।

बता दें कि शशिकला के मुख्यमंत्री बनने को लेकर जयललिता की भतीजी दीपा माधवन का कहना है कि ये फैसला सेना के तख्तापलट के बराबर होगा। साथ ही उन्होंने शशिकला की ताजपोशी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि इस बात की उम्मीद त काफी पहले से थी। अपनी निजी राय देते हुए उन्होंने कहा कि दीपा तमिलनाडु का एक हिस्सा है। तमिलनाडु के लोग यह फैसला स्वीकार नहीं करेंगे। तमिलनाडु के लोगों के लिए ऐसी बुरी स्थिति की कल्पना नहीं की थी। यह बहुत ही गलत फैसला होगा बिल्कुल सेना के तख्तापलट जैसा। शशिकला लोकतांत्रिक ढंग से चुन कर नहीं आई हैं।

गौरतलब है कि AIADMK पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के देहांत के बाद पार्टी में उपजे सत्ता के दो केंद्रों का विवाद खत्म करना चाहती है। पार्टी इसके लिए अब शशिकला को सीएम बनाकर विवाद हल करने पर विचार कर रही है। शशिकला राज्य की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता की काफी करीबी सहयोगी थीं और उनके समर्थक भी इसी तर्क का हवाला देकर उन्हें सीएम पद का असल हकदार बताते हैं।

उधर पन्नीरसेल्वम के करीबी माने जाने वाले कई नौकरशाहों के हटाए जाने से भी मौजूदा मुख्यमंत्री के पर कतरे जाने का संकेत मिलता है।ऐसी ही अधिकारी शीला बालकृष्णन हैं, उन्होंने हाल ही में अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वे तमिलनाडु सरकार की सलाहकार थीं और बीमारी की वजह से जयललिता के अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान उन्होंने ही राजकाज संभाला था। इसके अलावा मुख्यमंत्री के दो सचिव के एन वेंकटारमन और ए रामालिंगम ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

साथ ही शशिकला को राज्य की कमान संभालने के संकेत काफी पहले ही मिल गए थे, जब पार्टी की ओर से जारी की गई प्रेस वार्ता में उन्हें चिनम्मा (छोटी अम्मा) कहकर संबोधित किया गया है। बता दें कि राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता को उनके समर्थक आदर भाव से अम्मा कहकर पुकारते थे। ऐसे में पार्टी द्वारा उन्हें चिनम्मा कहा जाना जयललिता के उत्तराधिकार पर उनके दावे पर मुहर लगाता है।