दिल्ली HC का आदेश, 1 अप्रैल से चांदनी चौक में बिना रजिस्ट्री के रिक्शे नहीं चलेंगे

याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, 'चांदनी चौक में 1 अप्रैल से बिना रजिस्ट्रेशन के रिक्शे नहीं चलेंगे। कोर्ट ने रिक्शों के रजिस्ट्रेशन के लिए दो बार बडें कैंप लगाने के आदेश दिए थे।

दिल्ली HC का आदेश, 1 अप्रैल से चांदनी चौक में बिना रजिस्ट्री के रिक्शे नहीं चलेंगे

देश की राजधानी के सबसे व्यस्ततम बाजार चांदनी चौक में 1 अप्रैल से बिना रजिस्ट्रेशन के रिक्शे नहीं चलेंगे। हाई कोर्ट ने यह आदेश चांदनी चौक सुंदरीकरण मामले में दिया है। उल्लेखनीय है कि चांदनी चौक रिडेवलपमेंट को लेकर कई याचिकाएं हाई कोर्ट में चल रही थीं। सुनवाई के दौरान कई बार सवाल उठे कि इस इलाके में लगने वाले जाम में रिक्शे बड़ी वजह हैं। ऐसे कई रिक्शे हैं जो इन इलाकों में बिना रजिस्ट्री के चलते हैं।

हाई कोर्ट ने रिक्शों के रजिस्ट्रेशन कराने के लिए दो बार बडें कैंप लगाने के आदेश भी एजेंसियों को दिए थे। करीबन पांच सौ रिक्शे इस कैंप में रजिस्टर भी हो चुके हैं। जो नहीं हुए हैं वे अब 1 अप्रैल के बाद चांदनी चौक के इलाके में नहीं चल पाएंगे।

ज्ञात हो कि पूरी दिल्ली में करीब 20 लाख से ऊपर रिक्शे हैं और हर रोज इस इलाके में भी 50 हजार से ज्यादा रिक्शे चलाए जा रहे हैं। हालांकि, रजिस्ट्रेशन सिर्फ 500-600 रिक्शों का ही हो पाया है। इस रजिस्ट्रेशन का मकसद न सिर्फ चालकों की पहचान करना है बल्कि अवैध रुप से चल रहे रिक्शों पर भी लगाम लगाना है।

चांदनी चौक में अक्सर ट्रैफिक जाम की ही समस्या बनी रहती है। इस ऐतिहासिक इलाके के अस्तिस्व को लेकर भी कई बार सवाल उठे हैं। हाई कोर्ट पहले कुछ याचिकाओं की सुनवाई के बाद चांदनी चौक में रिक्शा चलाने को बैन कर चुका था लेकिन फिर कुछ गैर सरकारी संगठनों ने याचिका लगाई कि इससे हजारों लोग बेरोजगार हो जाएंगे। लिहाजा रजिस्ट्रेशन के साथ इनको चलाने की इजाजत मिलनी चाहिए।