कर्नाटक डायरी मामला: कांग्रेस मुख्यालय तक पहुंच सकती है IT की जांच, बड़े नेताओं से पूछताछ संभव

कर्नाटक में पिछले दिनों सामने आए कथित 600 करोड़ के ‘डायरी रिश्वत’ मामले की जांच अब देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय तक पहुंच सकती है। आयकर विभाग के अधिकारी कांग्रेस मुख्यालय आकर बड़े नेताओं से पूछताछ कर सकते हैं।

कर्नाटक डायरी मामला: कांग्रेस मुख्यालय तक पहुंच सकती है IT की जांच, बड़े नेताओं से पूछताछ संभव

कर्नाटक में पिछले दिनों सामने आए कथित 600 करोड़ के ‘डायरी रिश्वत’ मामले की जांच अब देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय तक पहुंच सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले साल मार्च में कांग्रेस एमलसी के. गोविंदराजू के घर से मिली डायरी में कथित तौर पर बड़े राजनेताओं को करोड़ों रुपये देने का जिक्र था जिसकी जांच की जा रही है।

इस मामले में जिन प्रदेश स्तर के नेताओं का नाम सामने आया था, उन्हें समन भेजकर पूछताछ करने के बाद अब आयकर विभाग के अधिकारी दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय आकर बड़े नेताओं से पूछताछ कर सकते हैं।

बता दें कि पिछले साल मार्च में कांग्रेस एमएलसी गोविंदराजू के घर तलाशी के बाद बेंगलुरु में राजनेताओं पूछताछ से पूछताछ की गई थी। ये वे नेता थे जिनका नाम संक्षेप में DKS, RVD, KJG, MBP, RLR, HCM और SB लिखा गया था।

वहीं सीएम के सलाहकार-रिटायर हो चुके आईपीएस अधिकारी एम. केमपैया का नाम हालांकि पूरा लिखा गया था और उनके नाम के आगे ‘BBMP और ZP चुनाव’ के लिए 12 करोड़ रुपये देना लिखा हुआ था। इस मामले में सबसे पहले उन्हें समन किया गया था।

इसके बाद केस से कथित तौर पर जुड़े अन्य नेताओं- डीके शिवाकुमार, आरवी देशपांडे, केजी जॉर्ज, एमबी पाटिल, रामालिंगा रेड्डी, एचसी महादेवप्पा और नौकरशाह टी शाम भट्ट को भी समन किया गया था, पर इन्हें ऑफिस में कामकाज का वक्त खत्म होने के बाद बुलाया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आयकर विभाग की कार्रवाई के बाद गोविंदराजू ने कहा था यह उनकी डायरी नहीं है और न ही उसमें मौजूद लिखावट उनकी है। जब जांच की गई तो पता चला कि वाकई में लिखावट उनकी नहीं थी। बता दें कि इस कथित रिश्वत के मामले में लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान 600 करोड़ रुपये तक लिए जाने और दिए जाने की जिक्र है।