ISIS के चंगुल से छूटे डॉ. राममूर्ति ने PM को कहा- शुक्रिया

भारतीय डॉ. के राममूर्ति लिबिया में आतंकवाद के खौफनाक चेहरे आईएसआईएस के चंगुल से बाहर निकल आए हैं। राममूर्ति ने आतंकी संगठन से छूटने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया है।

ISIS के चंगुल से छूटे डॉ. राममूर्ति ने PM को कहा- शुक्रिया

भारतीय डॉ. के राममूर्ति लिबिया में आतंकवाद के खौफनाक चेहरे आईएसआईएस के चंगुल से बाहर निकल आए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आतंकी संगठन से छूटने के बाद राममूर्ति ने कहा कि रिहाई और भारत सरकार की कोशिशों के लिए मैं प्रधानमंत्री, एनएसए, सुषमा स्वराज और दूसरे अफसरों का शुक्रिया अदा करता हूं। इन सभी की कोशिशों से मैं घर लौट सका हूं।

जबरन ले जाते थे ऑपरेशन थियेटर
डॉ. राममूर्ति ने जो आपबीती सुनाई है, उसे सुनकर आपके भी हैरान हो जाएंगे। डॉ ने एएनआई से कहा कि आतंकी उन्हें जबरन ऑपरेशन थियेटर में ले जाते थे। उनसे ऑपरेशन करने को कहते थे, लेकिन उन्होंने ना तो कभी सर्जरी की और ना ही कभी किसी को टांके लगाए।

मुझे 3 बार मारी गोली
उन्होंने बताया कि आईएसआईएस के आतंकियों ने मुझे 3 बार गोली मारी। मुझे काफी भला-बुरा भी कहा। जितने भी आतंकी युवा हैं वे सभी काफी पढ़े-लिखे हैं और भारत के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं।

जबरदस्ती दिखाते थे वीडियो
राममूर्ति ने कहा कि उन्हें आतंकी सिरते की सेंट्रल जेल में ले गए थे, जहां 2 भारतीय और बंद थे, उन्हें वो जबरदस्ती वीडियो दिखाते थे, जो कि सीरिया, नाईजीरिया जैसे देशों का था, जहां आईएसआईएस ने आतंक मचा रखा है।वो बेहद ही डरावने वीडियो थे। उन्होंने कहा कि सोचते थे कि मैं एक डॉक्टर हूं और एक न एक दिन उनके काम आ जाऊंगा। इसलिए उन्होंने मुझे जिंदा रखा।

18 महीने पहले किया था अगवा
गौरतलब है कि डॉ राममूर्ति को करीब 18 महीने पहले लीबिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने अगवा कर लिया था। वह आंध्र प्रदेश में कृष्णा जिले के एक गांव के रहने वाले हैं।