खाली पेट लीची खाने से हुई थीं रहस्यमय मौतें: वैज्ञानिकों का दावा

बिहार के मुजफ्फरनगर में हर साल रहस्यमयी मौतों का कारण पता लग गया है, वैज्ञानिकों का दावा है कि ये मौते खाली पेट लीची खाने से हो रही है।

खाली पेट लीची खाने से हुई थीं रहस्यमय मौतें: वैज्ञानिकों का दावा

बिहार के मुजफ्फरपुर में रहस्यमय तरीके से फैली मष्तिष्क संबंधी बीमारी का कारण अब पता लग गया है। इस बीमारी के कारण 2014 तक हर साल 100 लोग मौत के शिकार बनते थे। अमेरिका और भारत के कुछ वैज्ञानिकों ने एक शोध के बाद यह पता लगाया कि इस बीमारी का कारण लीची नाम का फल है। वैज्ञानिकों का कहना है कि खाली पेट लीची खाने से ये बीमारी हुई। बता दें कि मुजफ्फरपुर लीची की पैदावार के लिए प्रसिद्ध है।

इस बीमारी के मौसमी प्रकोप ने मुजफ्फरपुर को लगभग 2 दशकों तक परेशान किया। ठीक ऐसे ही कुछ मामले पश्चिम बंगाल के मालदा में देखने को मिले। रिसर्चर्स कहना है कि शाम का खाना न खान से रात को हाइपोग्लाइसीमिया या लो-ब्लड शुगर की समस्या हो जाती है, खासकर कि उन बच्चों के साथ जिनके लिवर और मसल्स में ग्लाइकोजन-ग्लूकोज की स्टोरेज बहुत कम होती है।

इससे फैटी ऐसिड्स जो शरीर में एनर्जी पैदा करते हैं और ग्लूकोज बनाते हैं, का ऑक्सीकरण हो जाता है। लीची में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले विषाक्त पदार्थ जिन्हें hypoglycin A और methylenecyclopropylglycine (MPCG) कहा जाता है, शरीर में फैटी ऐसिड मेटाबॉलिज़म बनने में रुकावट पैदा करते हैं। इसकी वजह से ही ब्लड- शुगर लो लेवल में चला जाता है और मस्तिष्क संबंधी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं और दौरे पड़ने लगते हैं।

रिसर्चर्स की यह खोज 'द लैनसेट' नाम की मेडिकल जर्नल में प्रकाशित हुई है। 2013 में नैशनल सेंटर ऑफ डिज़ीज़ कंट्रोल (NCDC) और यूएस सेंटर ऑफ डिज़ीज़ कंट्रोल ने इस मामले में एक साझा शोध किया।