खुदा का करिश्मा: ओटो पलटने से छह लोगों की मौत, बच्चे को नहीं आई एक भी खरोच

कहते हैं जिसकी जिंदगी ऊपर वाले की दी हुई हो उसको कोई नहीं मार सकता। ऊपर वाले के चमत्कारों पर शक नहीं किया जा सकता। ऐसा ही एक चमत्कार सामने आया है जिसमें एक ओटो बुरी तरह दुर्घटनाग्रस्त हो गया...

खुदा का करिश्मा: ओटो पलटने से छह लोगों की मौत, बच्चे को नहीं आई एक भी खरोच

कहते हैं जिसकी जिंदगी ऊपर वाले की दी हुई हो उसको कोई नहीं मार सकता। ऊपर वाले के चमत्कारों पर शक नहीं किया जा सकता। ऐसा ही एक चमत्कार सामने आया है जिसमें एक ओटो बुरी तरह दुर्घटनाग्रस्त हो गया। जिसमें छह लोगों की मौत हो गई। चौकाने वाली बात तो यह है कि ओटो में एक बच्चा भी मौजूद था जो सही सलामत जिंदा बच गया।

बता दें कि अॉटो पर सवार परिवार देवघर से पूर्णिया लौट रहा था, रास्ते में अचानक अॉटो का संतुलन बिगड़ गया जिससे अॉटो मंदिर में जा घुसी और दिवाल से टकरा गई जिसमें परिवार के छह सदस्यों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। लेकिन आश्चर्य जनक बात यह है कि इस दुर्घटना में मां का दूध पी रहा बच्चा सही सलामत बच गया, उसे एक खरोंच तक नहीं आई।

गौरतलब है कि हादसे में सजंय उनकी पत्नी रीना और पुत्र अनिकेत की मौत हो गयी। जबकि माँ के सीने से चिपके एक साल पुत्र सही सलामत ऑटो से निकाला गया। सुचना मिलते ही मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष विनोद सिंह ने तत्काल बच्चे की मेडिकल जाँच करा अपने आवास पर रखा। परिजनों के पहुचने पर जिन्दा बचे मासूम को उनके हवाले किया गया।

साथ ही ग्वालपाड़ा से संजय और रीना देवी अपने 5 वर्षीय पुत्र अनिकेत का मुंडन कराने अपने परिजनों के साथ देवघर गए थे। ऑटो पर 10 लोग सवार थे। सभी छह मृतक पूर्णिया जिले के रुपौली के रहने वाले थे। घटना की सूचना पर कुर्सेला थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह सदर अस्पताल पहुंचकर सभी मृतकों का पोस्टमार्टम कराया।