हाथरस: SP-BSP कार्यकर्ताओं में झड़प, एक कार्यकर्ता की मौत

चुनाव प्रचार के दौरान एसपी और बीएमपी के कार्यकर्ताओं में झड़प, एसपी समर्थकों द्वारा की गई राउंड फायरिंग में एक बसपा नेता की मौत हो गई जबकि आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए।

हाथरस: SP-BSP कार्यकर्ताओं में झड़प, एक कार्यकर्ता की मौत

हाथरस जिले के सहपुर थाना स्थित मानिकपुर गांव में चुनाव प्रचार के दौरान एसपी और बीएमपी के कार्यकर्ता आपस में ही भीड़ गए। इस दौरान एसपी समर्थकों द्वारा की गई कई राउंड फायरिंग में एक बसपा नेता की मौत हो गई जबकि आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए। जिनमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। घायल दो लोगों को आगरा रेफर किया गया है। मृतक पुष्पेन्द्र शर्मा बसपा का युवा नेता बताया जा रहा है। बीच फायरिंग के बाद पुलिस ने पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, सादाबाद विधानसभा के मानिकपुर इलाके में एसपी और बीएसपा दोनों पार्टियों के लोग अपना-अपना प्रचार कर रहे थे। इसी दौरान दोनों पार्टी के कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए। जिसके बाद दोनों पक्षों में जमकर बहसबाजी हुई और गोलियां चलीं। जिसमें सादाबाद क्षेत्र के युवा बसपा नेता पुष्पेंद्र पुष्प समेत 5 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। पुष्पेंद्र पुष्प की इलाज के दौरान मौत हो गईघायलों में से 2 को गंभीर हालत में आगरा के निजी अस्पताल रेफर कर दिया गया है जहां उनका इलाज चल रहा है।

हाथरस के बसपा जिला अध्यक्ष दिनेश देशमुख ने कहा कि मंत्री जी के बेटे चिराग उपाध्याय प्रचार के लिए जा रहे थे, तभी उनकी गाड़ी को समाजवादी पार्टी के कुछ गुंडों ने घेर लिया। साथ ही बेवजह उनके ऊपर फायरिंग शुरू कर दी. इसमें बीएसपी कार्यकर्ता पुष्पेंद्र पुष्प की गोली लगने से मौत हो गई। इसी के साथ उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के गुंडे लगातार ये प्रयास कर रहे हैं कि वे अपनी गुंडई के बल पर इस सीट को जीत लें। हाथरस के एसपी दिलीप कुमार ने कहा कि घटना की जांच-पड़ताल की जा रही है।

ज्ञात हो कि हाथरस में 11 फरवरी को पहले चरण के दौरान मतदान होना है। इसके बावजूद फायरिंग की घटना गंभीर सवाल खड़े कर रही है। यहां प्रशासन की बड़ी लापरवाही भी सामने आई है। अचार संहिता लागू होने के बाद जब असलहों को जमा करा दिया जाता है तो इतनी तादाद में हथियार समर्थकों तक कैसे पहुंच रहे हैं।