ईरानी निर्देशक ने किया ट्रंप का विरोध, ऑस्कर लेने नहीं पहुंचे फरहादी

ऑस्कर पुरस्कार में ईरानी फिल्म निर्देशक असगर फरहादी की फिल्म द् सेल्समैन को सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म के खिताब से नवाजा गया है। लेकिन ट्रंप की नीतियों का विरोध करते हुए असगर फरहादी ने समारोह में जाकर पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

ईरानी निर्देशक ने किया ट्रंप का विरोध, ऑस्कर लेने नहीं पहुंचे फरहादी

ऑस्कर पुरस्कार में ईरानी फिल्म निर्देशक असगर फरहादी की फिल्म द् सेल्समैन को सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म के खिताब से नवाजा गया है। लेकिन ट्रंप की नीतियों का विरोध करते हुए असगर फरहादी ने समारोह में जाकर पुरस्कार लेने से मना कर दिया। असगर फरहादी की जगह पुरस्कार लेने पहुंचे उनके प्रतिनिध ने असगर का लिखा संदेश पढ़ा जिसमें उन्होंने ट्रंप सरकार की नितियों की आलोचना की।

आमतौर पर ऑस्कर में विजेता की जगह उसके प्रतिनिधि को अवॉर्ड लेने की अनुमति नहीं होती है लेकिन असगर फरहादी के लिए ऑस्कर ने अपने नियमों में बदलाव किया। हालांकि किसी विजेती के प्रतिनिधि को अवॉर्ड तभी दिया जाता है जब उसकी मौत हो गई हो।

अंतरराष्ट्रीय मीडिया के अनुसार ईरानी-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री अनौशेह अंसारी ने असगर फरहादी के स्थान पर अवॉर्ड लिया। उन्होंने कहा कि असगर फरहादी के लिए यह बहुत ही मुश्किल फैसला था इसके लिए बहुत हिम्मत चाहिए होती है।

उल्लेखनीय है कि ऑस्कर के लिए नामित होने के बाद असगर ने कहा था, कि अगर उन्हें अमेरिका में दाखिल होने की विशेष अनुमति मिलेगी, तब भी वह ऑस्कर में शिरकत नहीं करेंगे। फरहादी की फिल्म ‘द सेल्समैन’ को 89वें ऑस्कर समारोह में सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म की श्रेणी में नामित किया गया था और अब इस फिल्म ने यह अवॉर्ड जीत लिया है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के 120 दिनों के लिए शरणार्थियों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक और ईरान, इराक, लीबिया, सोमालिया, सूडान और यमन के नागरिकों पर 90 दिनों का प्रतिबंध लगाने के फैसले के बाद फरहादी का यह बयान आया था।

फरहादी ने कहा, ‘मुझे खेद है कि मैंने इस बार अपने सिनेमा क्षेत्र के साथियों के साथ ऑस्कर समारोह में नहीं जाने का फैसला किया है।’ निर्देशक ने कहा कि पहले उन्होंने इसमें शिरकत करने का फैसला किया था। फरहादी ने कहा,  ‘मेरे हमवतन और अन्य छह देशों के नागरिक कानूनी तौर पर अमेरिका में प्रवेश करते हैं। लेकिन उन पर इस प्रतिबंध की मैं निंदा करता हूं।