J&K: कश्मीरी पंडितों-सैनिकों के लिए अलग से नहीं बनेगी कॉलोनी

जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडितों और सैनिकों के लिए अलग से कॉलोनी बनाने की अटकलों पर केंद्र सरकार ने विराम लगा दिया है। केंद्र सरकार ने संसद को जानकारी देते हुए बताया कि जम्मू कश्मीर में कश्मीरी पंडितों-सैनिकों के लिए अलग से कॉलोनी बनाने का कोई प्रस्ताव नहीं है।

J&K: कश्मीरी पंडितों-सैनिकों के लिए अलग से नहीं बनेगी कॉलोनी

केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडितों और सैनिकों के लिए अलग से कॉलोनी बनाने की अटकलों पर विराम लगा दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार ने संसद को जानकारी देते हुए बताया कि जम्मू कश्मीर में कश्मीरी पंडितों-सैनिकों के लिए अलग से कॉलोनी बनाने का कोई प्रस्ताव नहीं है।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि राज्य में सैनिकों-कश्मीरी पंडितों के लिए अलग से कॉलोनी बनाने का कोई भी प्रस्ताव नहीं है। उन्होंने लोकसभा में कांग्रेस के अश्विनी कुमार द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि सरकार ने 18 नवंबर 2015 को सिर्फ एक योजना बनाई थी।

जिस योजना के तहत 3000 नौकरियां पंडितों के लिए निकाली गई थीं जबकि 6000 ट्रांजिट आवास भी उनके लिए बनाने की योजना थी। बता दें कि पिछले काफी समय से घाटी में पंडितों और सैनिकों के लिए अलग से कॉलानी बनाने के प्रस्ताव की बात हो रही थी।