मोदी सरकार मुस्लिमों के आत्मविश्वास पर अटैक कर रही है- बदरुद्दीन अजमल

देश का मुसलमान डरा हुआ है, असम में बीजेपी की सरकार बांग्लादेशी के नाम पर मुसलमानों के साथ जुल्म कर रही हैः मौलाना बदरुद्दीन अजमल

मोदी सरकार मुस्लिमों के आत्मविश्वास पर अटैक कर रही है- बदरुद्दीन अजमल

बीजेपी ने सपने तो बहुत दिखाए लेकिन किया कुछ नहीं। देश का मुसलमान डरा हुआ है ,मोदी सरकार मुसलमानों के आत्मविश्वास पर अटैक कर रही है। असम में बांग्लादेशी के नाम पर मुसलमानों पर जुल्म हो रहा है। ऐसी तमाम बातें असम  से सांसद और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के अध्यक्ष  मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने नारदा न्यूज से की है। पेश है नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी और बदरुद्दीन अजमल के बीच बातचीत के मुख्य अंशः

हिंदुस्तान में सेक्युलर पॉलिटिक्स की बात हमेशा होती रहती है।अभी के राजनीतिक हालात में सेक्युलर पॉलिटिक्स को लेकर आप क्या कहेंगे? क्या देश से सेक्युलर पॉलिटिक्स खत्म हो रही है ?

असम में बीजेपी की सरकार है और केंद्र में भी बीजेपी का ही शासन है। बीजेपी ने सेकुलरिज्म का मतलब ही बदल दिया है। एक इनका अपना बनाया हुआ सेकुलरिज्म है दूसरा सेकुलरिज्म वो है जो दुनिया मानती है। बीजेपी ने अपने एजेंडे के तहत सेकुलरिज्म को परिभाषित करना चाह रही है। असल मे बीजेपी के लोग सेकुलरिज्म को धव्स्त करने वाले लोग है।

क्या आप असम में  सोनोवाल सरकार से खुश है ? बीजेपी तो बेहतर शासन देने का दावा कर रही है ।  

असम में सर्बानंद सोनोवाल की जो हूकूमत आई थी वो परिवर्तन के नाम पर आई थी विकास के नाम पर आई थी लेकिन सर्बानंद सोनोवाल ने परिवर्तन और विकास के नाम पर कुछ नहीं किया है। अभी सोनोवाल सरकार केवल पिछली सरकार द्वारा किए काम का क्रेडिट ले रही है।असम में मुसलमानों को बांग्लादेशी के नाम पर सताया जा रहा है। हजारों मुसलमानों, ओबीसी भाईयों और बंगाली लोगों को टार्गेट कर बेघर किया जा रहा है। इस मार्फत हमने कई बार मेमोरेंडम सीएम सोनोवाल और पीएम नरेंद्र मोदी को दिया है लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।  जो लोग अपने घरों में करीब 50 साल से रह रहे हैं। उन्हे भी बांग्लादेशी के नाम पर सताया जा रहा है बेघर किया जा रहा है। हमने सरकार को चैलेंज किया है कि जितने लोगों को आप बेघर कर रहे है उनके खिलाफ एक भी सबूत है तो आप दिखाइये। लेकिन सूबे की बीजेपी सरकार गुंडई पर उतर आई है। कई लोगों के कागजात बाढ़ में बह गए है लेकिन वोटर लिस्ट में उनका नाम है फिर भी उन्हे सताया जा रहा है। आज तक सरकार एक भी व्यक्ति को बांगलादेशी साबित नहीं कर पाई है। और अपने ही देश के लोगों को बांग्लादेशी के नाम पर जुल्म किया जा रहा है।

असम समेत पूरे देश में मुसलमानों के हालात पर आप क्या कहेंगे ?

बीजेपी की सरकार के आने के बाद से जो सबसे बड़ा नुकसान देश के मुसलमानों को हुआ है वो मुसलमानों का सेल्फ कांफिडेंस को लेकर है। मुसलमानों का सेल्फ कांफिडेंस पर अटैक हो रहा है। बीजेपी के सांसद जो तरह-तरह के बयान देते है उससे मुसलमान डरा हुआ है। घर वापसी की बात हो या फिर एक मुसलमान से 40 बच्चे पैदा होंगे इस तरह की बात हो अखलाख का मामला हो मुजफ्फरनगर का मामला हो इन सब बातों से मुसलमान डरा हुआ है।पीएम सबका साथ सबका विकास की बात केवल कहते है करते नहीं है। मैने एक सांसद के तौर पर पिछले ढ़ाई साल में पीएम से मिलने के लिए करीब 20 दफे अप्वाइंमेट मांगा लेकिन आज तक पीएम मोदी मुझसे नहीं मिले। वो केवल इसलिए कि मै मुसलमान हुं। हमारे अंदर क्या कमी है कि बस यही कि टोपी और दाढ़ी वाले है। पीएम मोदी ने मुसलमानों के लिए दरवाजे बंद कर रखे है। सबसे बड़े अफसोस की बात थोड़े दिनों पहले नरेंद्र मोदी अलीगढ़ गए  लेकिन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी नहीं गए उन्होने यूनिवर्सिटी की नाम तक नहीं लिया।

नोटबंदी को देश के लिए कितना जरुरी मानते है इससे गरीब मुसलमानों पर क्या असर पड़ा है ?

नोटबंदी से सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों का हुआ है। चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान, गरीब लोगों का कारोबार चौपट हो गया है। नोटबंदी की वजह से करीब 125 लोग की मौत हुई वो सभी गरीब थे। पीएम मोदी को गरीबों की चिंता नहीं है वो बस केवल पुंजिपतियों की चिंता करते है।  ऐसा लगता है कि नरेंद्र मोदी केवल अमीरों के पीएम है गरीबों से तो उनका कोई नाता नहीं है।

आपका झुकाव हमेशा से कांग्रेस की तरफ रहा है बीते दिनों में कांग्रेस ने आपको यूपी चुनाव में प्रचार के लिए बुलाया था। असम चुनाव में आप कांग्रेस के साथ नहीं थे क्या आपको अब कांग्रेस अच्छी लगने लगी है ?



असम चुनाव में हमारा स्टैंड एंटी कांग्रेस एंटी बीजेपी था लेकिन ढ़ाई साल में पीएम मोदी सियासी चेहरा देखने के बाद अब हमें किसी ना किसी बड़ी पार्टी के साथ जाना पड़ेगा और बीजेपी को सत्ता से हटाना है। ऐसे में हम अब कांग्रेस के साथ जा सकते है उन्होने मुझे बुलाया था हमने कहा है कि बीजेपी के खिलाफ हम साथ है लेकिन पब्लिक मिटिंग हम नहीं करेंगे। संसद में हम अपोजिशन के साथ है। रही बात असम चुनाव की तो वहां तरुण गोगोई की वजह से कांग्रेस हारी थी। हमारी पार्टी का कांग्रेस के साथ गठबंधन होना था लेकिन तरुण गोगोई की वजह से नहीं हो पाया। अब हम 2019 के लिए गोलबंद हो रहे है और हर हाल में बीजेपी को सत्ता से बाहर करेंगे।

मुस्लिम आतंकवाद और जाकिर नाईक के मसले पर आप क्या कहेंगे ?

आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता वो सिर्फ आतंकवादी होते है। रही बात इस्लाम में किसी मारने और गुनाह करने की इजाजत नहीं देता इस्लाम हिफाजत करना सिखाता है। जो लोग भी आतंक का खेल खेलना चाहते है वो अपना नाम इस्लाम सें कटवा लें ये जिहाद नहीं है ये शैतानी है। रही बात जाकिन नाईक की तो वो पैगाम देते है वो किसी को आतंकी नहीं बनाते है। जाकिर नाईक अच्छा काम कर रहे थे।

संघ प्रमुख मोहन भागवत का कहना है हिंदुस्तान का मुसलमान आदत से हिंदू है क्या आप इससे इतेफाक रखते है ?

मै उनकी राय से इतेफाक नहीं रखता और मोहन भागवत जी को अपने इस नजरिए को बदलना पड़ेगा। मैने तो प्राइम मिनिस्टर को भी लिखा है कि अगर वो सत्ता में रहना चाहते है तो इस तरह के बयान पर लगाम लगानी होगी। प्राइम मिनिस्टर सारा काम तो गलत नहीं कर रहे है कुछ अच्छा भी कर रहे है। लेकिन बीजेपी के कुछ छोटी सोच वाले नेता उनको चलने नहीं दे रहे है। पीएम को ऐसे लोगों पर लगाम लगानी होगी। बीजेपी के एमपी और मंत्री रोजाना एक बयान देते है जो मुसलमान के दिल को जख्मी करता है।

आप कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व क्षमता और बिहार के सीएम नीतीश कुमार के बारे में क्या कहेंगे ?

राहुल गांधी पर मुझे कोई कमेंट नहीं करना है उनकी पार्टी उनको लायक समझ रही है तो आगे की हुई है अगर उनमे दम नहीं लगेगा तो पिछे कर देगी ।  ये कांग्रेस का अंदरुनी मामला है। नीतीश कुमार एक अच्छे नेता है और बिहार में अच्छा काम कर रहे हैं।