मोटरमैन की समझदारी से बची महिला की जिदंगी

मुंबई में एक ट्रेन ड्राइवर की समझदारी की वजह से महिला की जान बच गई। ड्राइवर ने समय रहते महिला से बिल्कुल थोड़ी ही दूरी पर ट्रेन रोक दी।

मोटरमैन की समझदारी से बची महिला की जिदंगी

मुंबई में एक ट्रेन ड्राइवर की समझदारी की वजह से महिला की जान बच गई। ड्राइवर ने समय रहते महिला से बिल्कुल थोड़ी ही दूरी पर ट्रेन रोक दी। पश्चिमी रेलवे प्रशासन अब ड्राइवर संतोष कुमार गौतम को चर्नी रोड स्टेशन पर समय रहते अपनी सूझ-बूझ से हादसे को टालने के लिए सम्मानित करने की योजना बना रहा है।

6 दिसंबर को यह महिला ट्रैक पर अकेले जा रही थी और उसका ध्यान ट्रैक पर आ रही ट्रेन पर नहीं गया। गौतम 12.10 बजे चर्चगेट बाउंड फास्टट्रेन चला रहे थे। ग्रैंट रोड रेलवे स्टेशन पार करने के बाद उन्हें ट्रैक पर महिला दिखाई दी। फास्ट ट्रेन मुंबई सेंट्रल पर पहुंचने के बाद धीमी हुई। चर्चगेट से पहले तीन स्टेशनों पर ट्रेन को रुकना था।

गौतम ने बताया कि ग्रैंट रोड स्टेशन पार करने के बाद मैंने ट्रेन की स्पीड 75 किमी से 70 किमी कर दी थी जिससे कि क्रॉस ओवर में ट्रेन पर बेहतर कंट्रोल हो सके। अगला स्टेशन चर्नी रोड था जहां ट्रैक पर मैंने एक महिला को आते हुए देखा। कई बार हॉर्न देने के बावजूद महिला नजदीक आती ट्रेन की दिशा में आगे बढ़ती जा रही थी।

गौतम ने कहा कि मैंने ट्रेन को रोकने की कोशिश की थी लेकिन ट्रेन उस वक्त 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी। मैं आश्वस्त नहीं था कि ट्रेन समय रहते रुक पाएगी या नहीं। मैं मोटरमैन केबिन में बैठा था और महिला को बचाने के लिए मुझे कूदना पड़ा। जब ट्रेन महिला के नजदीक पहुंच गई तो महिला ने प्लैटफॉर्म पर चढ़ने की कोशिश करने लगी लेकिन प्लैटफॉर्म काफी ऊंचा होने की वजह से वह ऊपर नहीं चढ़ सकी। जब ट्रेन रुकी तो गौतम को अपने केबिन से कूदना पड़ा और दूसरे यात्रियों की मदद से महिला को प्लैटफॉर्म से हटाया।