संसद में पाकिस्तान को आतंकी राष्ट्र घोषित करने के लिए प्राइवेट मेंबर बिल पेश

राज्यसभा के इंडिपेंडेंट सांसद राजीव चंद्रशेखर ने पाकिस्तान को आतंकी राष्ट्र घोषित करने के लिए एक बील पेश किया। इस बील के हवाले से चंद्रशेखर ने कहा कि अगर भारत ये नहीं करेगा तो बाकी देश भी इस बारे में कुछ नहीं करेंगे।

संसद में पाकिस्तान को आतंकी राष्ट्र घोषित करने के लिए प्राइवेट मेंबर बिल पेश

राज्यसभा के इंडिपेंडेंट सांसद राजीव चंद्रशेखर ने पाकिस्तान को आतंकी राष्ट्र घोषित करने के लिए एक बील पेश किया। इस बील के हवाले से चंद्रशेखर ने कहा कि अगर भारत ये नहीं करेगा तो बाकी देश भी इस बारे में कुछ नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से सभी तरह के इकोनॉमिक और ट्रेड रिलेशन खत्म कर लेने चाहिए।

मीडिया रिपाेर्टस के मुताबिक राजीव ने ये बिल देश में पाकिस्तान के इशारे पर लगातार होने वाले आतंकी हमलों के विरोध में किया है। राजीव ने अपने बिल को ‘द डिक्लरेशन ऑफ कंट्रीज एज स्पॉन्सर टेरेरिज्म बिल 2016’ नाम दिया है। उन्होंने कहा- इस बिल में पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने का प्रस्ताव है। पाकिस्तान हमारे देश के खिलाफ आतंकवाद को प्रमोट और स्पॉन्सर करता है। उन्होंने कहा कि ऐसे देश से हमें हर तरह के इकोनॉमिक और ट्रेड रिलेशन तोड़ लेने चाहिए। उसके नागरिकों पर लीगल, इकोनॉमिक और ट्रेवल बैन लगाना चाहिए।

राज्यसभा सांसद ने कहा- कई साल से भारत और इस रीजन के देश पाकिस्तान द्वारा फैलाए गए आतंकवाद के शिकार बनते रहे हैं। आतंकी संगठनों और इससे जुड़े लोगों को वहां की सरकार पूरा सपोर्ट देती है, उन्हें स्पॉन्सर भी करती है। उन्होंने कहा- 1998 से 29 जनवरी 2017 तक 14,741 आम नागरिक मारे गए। 6274 सिक्युरिटी पर्सनल शहीद हुए। राजीव ने अपने बिल में 13 दिसंबर 2001 के संसद हमले का भी जिक्र अपने बिल में किया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की हिस्ट्री और ट्रेक रिकॉर्ड में ही आतंकवाद जुड़ा है।

चंद्रशेखर ने कहा- पाकिस्तान को आतंकी देश डिक्लेयर कराने के लिए हमें दूसरे देशों के पीछ नहीं भागना चाहिए। इस काम के लिए हमें खुद खड़ा होना होगा और पहले हम पाकिस्तान को दहशतगर्द मुल्क घोषित करें। उन्होंने कहा कि दुनिया अब पाकिस्तान की इन हरकतों से तंग आ चुकी है। अगर हम ये कदम उठाते हैं तो दुनिया भी हमारा साथ देगी। बिल पर चर्चा के दौरान कांग्रेस सांसद अन्ना भास्कर रापोलु ने कहा कि ये एक अच्छा सुझाव है। सरकार को इस पर विचार करना चाहिए। मोदी पर तंज कसते हुए भास्कर ने कहा- अब 56 इंच का सीना कहां गया?