नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 117 वर्षीय 'ड्राइवर' का निधन

आज नेताजी के सबसे विश्वसनीय सीपाही ने सदा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उनके ड्राइवर कर्नल निजामुद्दीन ने आज आखरी सास ली...

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 117 वर्षीय

ब्रिटिश सरकार की नीव को हिलाने वाले और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाषचंद्र बोस को कौन नही जानता हैं। उनकी हिम्मत और ताकत के आगे अंग्रेज भी घुटने टेकने पर मजबूर हो गए थे। आज हम इतिहास में उनकी बाते और उन्होंने भारत की आजादी के लिए क्या क्या किया इस बात को पढ़ते हैं तो सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है। लेकिन भारत में एक मात्र नेताजी सुभाष चंद्र बोस को करीब से देखने वाले आजाद हिन्द फौज के एक मात्र जीवित सिपाही निजामुद्दीन अब दुनिया में नहीं रहें।

उन्होंने कहा, "पिछले कुछ दिनों से बाबूजी की तबीयत ढीली चल रही थी और उन्हें सर्दी-ज़ुखाम की शिकायत थी. पिछले हफ़्ते उन्होंने बक्से से आज़ाद हिंद फ़ौज वाली अपनी टोपी निकलवाई और पहन कर घूप में लेटे रहे थे."

कर्नल निजामुद्दीन कि उम्र 117 साल थी। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के मुबारकपुर इलाके के ढकवा में अंतिम सांस ली। कर्नल निजामुद्दीन जिन्होंने आजाद हिंद फौज में शामिल होकर न सिर्फ अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ी बल्की उन्होंने नेताजी सुभाषचंद्र बोस की गाड़ी भी चलाया करते थे।