नीदरलैंड्स: निचली सदन ने भांग की खेती काे दी मंजूरी

नीदरलैंड्स में संसद के निचले सदन ने भाँग की खेती को मंज़ूरी दे दी है। इस कानून में कुछ शर्तों के साथ अधीन हाे कर भाँग उगानेवाले लोगों को सज़ा से छूट दिया गया है।

नीदरलैंड्स: निचली सदन ने भांग की खेती काे दी मंजूरी

नीदरलैंड्स में संसद के निचले सदन ने भांग की खेती को मंज़ूरी दे दी है। इस कानून में कुछ शर्तों के साथ अधीन हाे कर भांग उगानेवाले लोगों को सज़ा से छूट दिया गया है। नीदरलैंड्स में तथाकथित कॉफ़ी बेचनेवाली दूकानों से बहुत कम मात्रा में भांग ख़रीदी जाती रही है। मगर भाँग उगाना और उन्हें कॉफ़ी दूकानों में बेचना ग़ैर-क़ानूनी है।

आपकाे मालूंम हाे कि नीदरसैंड्स में कॉफ़ी दूकान अपने यहाँ बिकनेवाली भांग के लिए अपराधी गिरोहों तक का सहारा लेते हैं। नेदरलैंड्स में लोग खुलेआम गांजा या चरस पीते दिखे जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय मीडिया के अनुसार भाँग की खेती वाले विधेयक को डी66 नाम की एक उदार विचारधारा वाली पार्टी के सांसद ने पेश किया जो लंबे समय से इस क़ानून में रियायत देने की माँग करता रहा है।

निचले सदन में विधेयक केवल पाँच वोट के अंतर से पारित हो सका। पक्ष में 77 और विरोध में 72 मत पड़े। अब इस विधेयक को ऊपरी सदन से मंज़ूरी लेनी होगी जिसके बाद ही ये क़ानून बन पाएगा। हालाँकि ऊपरी सदन में संख्याबल के हिसाब से विधेयक का पारित होना मुश्किल लग रहा है। मगर विधेयक के अनिश्चित भविष्य के बावजूद कॉफ़ी दूकानों के प्रतिनिधियों ने इसे एक सकारात्मक क़दम बताते हुए इसका स्वागत किया है।