PAK रक्षा मंत्री "भारतीय भाेंपू"

पाकिस्तान रक्षामंत्री ख्वाजा आसिफ अपने ही देश के नेताओं के निशाने पर हैं। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों और धर्मगुरुओं ने उनकी आलोचना की है। रक्षा मंत्री को भारत का माउथपीस (भोंपू) करार दिया है।

PAK रक्षा मंत्री "भारतीय भाेंपू"

मुंबई पर हुए 26/11 के आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद अपने ही देश पाकिस्तान के लिए खतरा करार देने के बाद रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ अपने ही देश के नेताओं के निशाने पर हैं। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों और धर्मगुरुओं ने उनकी आलोचना की है। रक्षा मंत्री को भारत का माउथपीस (भोंपू) करार दिया है।

अंतरराष्ट्रीय मीडिया के मुताबिक नेताओं ने जमात-उद-दावा प्रमुख पर ख्वाजा आसिफ की टिप्पणी की आलोचना करते हुए सईद को 'देशभक्त' बताया है। पाकिस्तानी नेता रक्षा मंत्री के जर्मनी में दिए उस बयान की आलोचना कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने कहा था, 'हाफिज सईद समाज के लिए खतरा बन सकता है।' रिपोर्ट के मुताबिक, पाक रक्षा मंत्री की आलोचना करने वालों में डिफेंस ऑफ पाकिस्तान काउंसिल के चेयरमैन मौलाना समीउल हक के अलावा शाह बुगती, सरदार अतीक अहमद खान, लियाकत बलूच और मियां महमूद उर रशीद जैसे पाकिस्तानी नेता शामिल हैं। मौलाना समीउल हक ने कहा कि ख्वाजा आसिफ को जर्मनी में कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा 'अत्याचार' का मामला उठाना चाहिए था। इस बीच, जमात ने रक्षा मंत्री के बयान को लेकर मंगलवार से पूरे पाकिस्तान में विरोध-प्रदर्शन और रैलियां करने का ऐलान किया है। संगठन ने मांग की कि रक्षा मंत्री के बयान पर पीएम नवाज शरीफ को संज्ञान लेना चाहिए।

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ने जर्मनी स्थित म्यूनिख में एक अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सम्मेलन के दौरान कहा, 'हाफिज सईद समाज के लिए एक गंभीर खतरा पेश कर सकता है। देश के बड़े हित को ध्यान में रखते हुए सईद को गिरफ्तार किया गया था।' बता दें कि इससे पहले पंजाब प्रांत की सरकार ने हाल ही में सईद को आतंकवाद निरोधक कानून (एटीए) की सूची में डाल दिया है। पाकिस्तानी कानून के मुताबिक एटीए की सूची में नाम आना ही यह जाहिर करता है कि उस शख्स का आतंकवाद से संबंध है।

पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने हाफिज सईद को जारी 44 हथियारों के लाइसेंस को रद्द कर दिया। लाइसेंस सईद और उसके संगठन से जुड़े लोगों को जारी किए गए थे। सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए मंगलवार को पंजाब के गृह मंत्रालय की ओर से यह कार्रवाई की गई है।