भारत ही नहीं बल्कि PAK के लिए भी खतरा है हाफिज सईद: पाक रक्षा मंत्री

पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा है कि मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद केवल भारत का ही नहीं, बल्कि पाकिस्तान के लिए भी खतरा है।

भारत ही नहीं बल्कि PAK के लिए भी खतरा है हाफिज सईद: पाक रक्षा मंत्री

पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा है कि मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद केवल भारत का ही नहीं, बल्कि पाकिस्तान के लिए भी खतरा है। आसिफ ने ये बात जर्मनी में म्यूनिख काउंटर टेरर मीट में कही। बता दें कि 30 जनवरी से सईद को नजरबंद किया गया है। उसे पाक की एंटी-टेरर लिस्ट में भी शामिल किया गया है। पाक पर आतंकवाद खत्म करने का दबाव।

खबराें के मुताबिक आसिफ ने कहा, "पाक पर अपनी जमीन से आतंकवाद खत्म करने का दबाव बढ़ता जा रहा है। अमेरिका में डोनाल्ड ट्रम्प के प्रेसिडेंट बनने के बाद ये दबाव और बढ़ गया है। आसिफ ने ये भी कहा, "ट्रम्प इस्लामोफोबिया को दुनियाभर में फैला रहे हैं।

सईद के भाई हाफिज मसूद ने भारत पर यह आरोप लगाया कि वह पाक पर दबाव डाल रहा है। अंतरराष्ट्रीय न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में मसूद ने कहा, "मेरे भाई को नजरबंद किया गया है। पाक सरकार उस पर निगरानी रखे हुए हैं। कड़ा पहरा रहता है। उससे मिलने की प्रॉसेस काफी लंबी है। सईद की आतंकी एक्टिविटीज को लेकर मसूद ने कहा, "मेरा भाई पूरे पाकिस्तान में मानवतावादी संगठन, स्कूल और हॉस्पिटल चलाता है। लश्कर-ए-तैयबा कश्मीर में क्या करता है, इससे मुझे कोई लेना-देना नहीं।

आपकाे बता दें कि पाकिस्तान ने 18 फरवरी को पहली बार जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को आतंकी माना था। पंजाब प्रोविन्स की सरकार ने सईद और उसके एक करीबी सहयोगी काजी काशिफ का नाम एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) के 4th शेड्यूल में शामिल किया था। अधिकारियाें के मुताबिक, फेडरल होम मिनिस्ट्री के आदेश पर काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट (सीटीडी) ने 4th शेड्यूल में दर्ज 1450 नामों के साथ इन दोनों के नाम भी जोड़े गए। इस लिस्ट में फैसलाबाद के अब्दुल्ला ओबैद और मुरीद के मरकज-ए-तैयबा के जफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद के नाम भी शामिल किए गए।

हांलाकि पाक होम मिनिस्ट्री ने इन तीनों की पहचान जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत के 'एक्टिव मेंबर्स' के तौर पर की है, जिसके बाद सीटीडी से इनके खिलाफ 'जरूरी और सही कदम उठाने' को कहा गया था। ऑफिशियल्स के मुताबिक, ग्वांतानामो खाड़ी से पाकिस्तान लाए गए 3 कैदियों के नाम भी इस लिस्ट में शामिल किए गए हैं। बता दें कि सईद को 30 जनवरी को नजरबंद किया गया था और उसका नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट में भी शुमार किया गया था।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) 1997 में लागू हुआ था। यह कानून सरकार को किसी भी शख्स की पहचान कर उस पर एकतरफा कार्रवाई करते हुए 4th शेड्यूल में उसका नाम दर्ज करने का अधिकार देता है। इस कानून के सेक्शन 11EE के मुताबिक, वह शख्स जिसका आतंकवाद में हाथ हो, बैन किए गए किसी ऑर्गनाइजेशन का मेंबर हो या इंटीरियर मिनिस्ट्री की वॉच लिस्ट में हो या आतंकवाद फैलाने वाले संगठन में शामिल हो, उसका नाम 4th शेड्यूल में रखा जा सकता है। 4th शेड्यूल के नॉर्म्स के मुताबिक, इसमें शामिल शख्स पर निगरानी रखी जाती है। शख्स के लिए लोकल पुलिस के पास रोजाना हाजिरी लगाना जरूरी होता है।

जमात-उद-दावा का चीफ है हाफिज सईद। पाक सरकार ने उसके खिलाफ एक्शन 8 आतंकी हमलों में 100 से ज्यादा लोगों की जान जाने के बाद लिया है। नवंबर 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमलों के बाद भी हाफिज सईद को पाक में नजरबंद किया गया था। वह मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड है, लेकिन पाक कोर्ट ने उसे 2009 में मुक्त कर दिया था। सईद के सिर पर अमेरिका ने 10 मिलियन डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है।