PM मोदी ने ट्रंप के H-1B वीजा पाबंदी को लेकर जताई चिंता

अमेरिका की सत्ता संभालने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कई बड़े फैसले लिए जिसमें एच1बी वीजा भी अहम मुद्दा है। पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ट्रंप प्रशासन द्वारा कुशल पेशेवरों की आवाजाही मामले में संतुलित और दूरदर्शी नजरिया अपनाने पर जोर दिया है।

PM मोदी ने ट्रंप के H-1B वीजा पाबंदी को लेकर जताई चिंता

अमेरिका की सत्ता संभालने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कई बड़े फैसले लिए जिसमें एच1बी वीजा भी अहम मुद्दा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ट्रंप प्रशासन द्वारा कुशल पेशेवरों की आवाजाही मामले में संतुलित और दूरदर्शी नजरिया अपनाने पर जोर दिया है।

अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों से बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने इस मुद्दे को उठाया और कहा कि भारतीय प्रोफेशनल्स पर पाबंदी सही कदम नहीं होगा।

ये ऐसा पहला अवसर है जब पीएम मोदी ने किसी मुद्दे पर सार्वजनिक तौर पर चिंता व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने अमेरिकी अर्थव्यवस्था की समृद्धि में भारत योगदान का भी जिक्र करते हुए कहा कि भारतीय प्रोफेशनल्स का अमेरिकी अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण रोल है वो कानून का पालन करने वाले और समाज में घुल मिलकर रहने वाले लोग हैं।

वहीं 6 अमेरिकी सांसदों के एक डेलिगेशन का स्वागत करते हुए मोदी ने ट्रप के साथ हुई सकारात्मक बातचीत का भी जिक्र किया। मोदी ने डेलिगेट्स को बताया कि ट्रंप के साथ फोन पर हुई उनकी बातचीत शानदार रही। उन्होंने बताया कि बीते ढाई साल में अमेरिका के साथ भारत का रिश्ता और मजबूत हुआ है।

इसके अलावा पीएमओ की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया है कि मोदी ने उन सभी क्षेत्रों पर अपने विचार उनके सामने रखे जहां देश और नजदीकी से काम करते हैं। इन क्षेत्रों में लोगों के बीच बेहतर संपर्क महत्वपूर्ण है जिसका पिछले कई सालों के दौरान एक दूसरे की समृद्धि में योगदान रहा है।

जानिए क्या हैं एच1बी वीजा

-ये अमेरिका में तैयार किया गया नया बिल है।

-इसके तहत एच 1 बी वीजा उन्हीं पेशेवरों को मिलेगा जिनका न्यूनतम वेतन एक लाख 30 हजार अमेरिकी डॉलर होगा।

-इस समय सीमा 60 हजार अमेरिकी डॉलर है।

-ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद एच 1 बी और एल 1 जैसे वीजा कार्यक्रमों की नए सिरे समीक्षा का फैसला किया था।