112 फीट ऊंचे भगवान शंकर के चेहरा का अनावरण करेंगे पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी आज कोयंबटूर में भगवान शिव की 112 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करेंगे। आज महाशिवरात्रि के मौके पर पीएम ईशा योग केंद्र में आदियोगी शिव की प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

112 फीट ऊंचे भगवान शंकर के चेहरा का अनावरण करेंगे पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी आज कोयंबटूर में भगवान शिव की 112 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करेंगे। आज महाशिवरात्रि के मौके पर पीएम  ईशा योग केंद्र में आदियोगी शिव की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ईशा फाउंडेशन ने कहा कि धरती के इस सबसे विशाल चेहरे की प्रतिष्ठा मानवता को आदियोगी शिव के अनुपम योगदान के सम्मान में की गई है। फाउंडेशन ने कहा कि यह प्रतिष्ठित चेहरा मुक्ति का प्रतीक है और उन 112 मार्गों को दर्शाता है, जिनसे इंसान योग विज्ञान के जरिए अपनी परम प्रकृति को प्राप्त कर सकता है।

ज्ञात हो कि इस भव्य चेहरे का डिजाइन और प्राण-प्रतिष्ठा ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु ने की है। सद्गुरु के मुताबिक आदियोगी को श्रद्धांजलि के रूप में प्रधानमंत्री पवित्र अग्नि को प्रज्वलित करके दुनिया भर में महायोग यज्ञ की शुरुआत करेंगे। भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय ने अपने आधिकारिक अतुल्य भारत अभियान में इस भव्य चेहरे की प्राण-प्रतिष्ठा को एक गंतव्य स्थल के रूप में शामिल किया है। चेहरा का निर्माण पत्थर नहीं बल्कि स्टील से किया गया है। चेहरे का डिजाइन ढ़ाई साल में तैयार किया गया है और ईशा फाउंडेशन की इन हाउस टीम ने आठ महीने में बनाया। बता दें कि सदगुरू के मुताबिक कोयंबटूर के अलावा आदियोगी शिव का चेहरा देश के अन्य तीन शहरों दिल्ली, मुंबई और वाराणसी में भी लगाए जाएंगे।

पीएम मोदी की कोयंबतूर यात्रा को लेकर शहर और इसके आसपास के इलाके में पांच-स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। तमिलनाडु-केरल की सीमा पर भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। मानवाधिकार संगठनों, विभिन्न राजनीतिक पार्टियों, किसानों एवं जनजातीय संस्थाओं की ओर से विरोध प्रदर्शन की योजनाओं के मद्देनजर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। इन संस्थाओं का आरोप है कि आदियोगी की आवक्ष प्रतिमा अतिक्रमित जमीन पर स्थापित की गई है और मोदी की यात्रा से इस जमीन का नियमितीकरण हो जाएगा। उधर चेन्नई में माकपा और भाकपा ने प्रतिमा स्थापित करने में कथित तौर पर हुए कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाया है और कहा है कि प्रधानमंत्री को कार्यक्रम स्थल पर नहीं जाना चाहिए। बता दें कि पीएम मोदी स्थानीय सुलूर हवाई अड्डे पर शाम करीब 5:30 में पहुंचेंगे और वहां से हेलीकॉप्टर के जरिए कार्यक्रम स्थल के लिए रवाना होंगे।