पुणे में भी ABVP-SFI सदस्यों के बीच झड़प, 8 गिरफ्तार

एबीवीपी और SFI के सदस्यों के बीच जमकर झड़प हो गई। मामले में आठ लोग गिरफ्तार।

पुणे में भी ABVP-SFI सदस्यों के बीच झड़प, 8 गिरफ्तार

पुणे में शुक्रवार रात एबीवीपी और स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के सदस्यों के बीच जमकर झड़प हुई। विवाद यूनिवर्सिटी में पोस्टर लगाने को लेकर शुरू हुआ, जिसके बाद दोनों संगठनों के मेंबर्स आपस में भिड़ गए। इसके बाद पुलिस ने दोनों ग्रुप के आठ लोगों को गिरफ्तार किया।

दरअसल, पिछले दिनों बीजेपी एमएलसी प्रशांत परिचारक ने सैनिकों की पत्नियों को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था। इसके खिलाफ स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया ने 27 फरवरी को एक समारोह का आयोजन किया है। इसी के लिए पोस्टर्स यूनिवर्सिटी में लगाए जा रहे थे।

SFI ने आरोप लगाया कि पोस्टर लगाते समय करीब दो दर्जन एबीवीपी मेंबर्स आए और बिना कुछ पूछे हमला कर दिया। वहीं, एबीवीपी की भी तरफ से आरोप लगाया गया कि SFI के पोस्टर्स पर एबीवीपी मुर्दाबाद लिखा हुआ था और जब इसका विरोध किया गया तो SFI के स्टूडेंट्स ने मारपीट शुरू कर दी।

चतुश्रुंगी पुलिस मौके पर पहुंची और छात्रों को हिरासत में लिया गया। कई घंटे हिरासत में रखने के बाद दोनों पक्षों के चार-चार छात्रों को गिरफ्तार कर लिया गया।

सोलापुर के एमएलसी प्रशांत ने पंढरपुर की एक सभा में कहा था, ‘पंजाब और सीमा पर जवान साल-साल भर ड्यूटी करते हैं, फिर कैसे उनकी पत्नियां घरों में बच्चे पैदा कर लेती हैं।’ विवाद बढ़ने के बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने बयान पर माफ़ी मांगी थी।

दिल्ली के रामजस कॉलेज में एक सेमिनार में देशद्रोह के आरोपी उमर खालिद और जेएनयू की पूर्व वाइस प्रेसिडेंट शेहला राशिद को बुलाया गया था। एबीवीपी के विरोध के बाद कॉलेज प्रशासन ने सेमिनार रद्द कर दिया था। इसके बाद SFI की ओर से प्रदर्शन किया गया। 22 फरवरी को रामजस कॉलेज के बार प्रदर्शन के दौरान ABVP और SFI के मेंबर्स के बीच जमकर मारपीट हुई थी।

(तस्वीर-गूगल)