रोहित वेमुला का सुसाइड नोट पढ़ कर रोना आ गया था: वरुण गांधी

यूपी में जारी विधानसभा चुनाव के बीच बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने इंदौर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए कहा कि हैदराबाद विश्वविद्यालय में पीएचडी छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या से पहले लिखे उनके पत्र को पढ़ने के बाद उन्हें रोना आ गया था।

रोहित वेमुला का सुसाइड नोट पढ़ कर रोना आ गया था: वरुण गांधी

यूपी में जारी विधानसभा चुनाव के बीच बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने इंदौर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए कहा कि हैदराबाद विश्वविद्यालय में पीएचडी छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या से पहले लिखे उनके पत्र को पढ़ने के बाद उन्हें रोना आ गया था।

इंदौर के एक स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे वरूण गांधी ने रोहित वेमुला के सुसाइड का मुद्दा उठाते हुए कहा कि जब मैंने सुसाइड नोट पढ़ा, तो मुझे रोना आ गया। उसमें लिखा था कि मैं इसलिए जान दे रहा हूं क्योंकि मैंने एक दलित के रूप में जन्म लेकर पाप किया है, मुझे जीने का हक कहां है।

इस दौरान वरुण ने पिछले महीने मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में दलितों के साथ भेदभाव के मामले का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि टीकमगढ़ के एक स्कूल में 70 प्रतिशत बच्चों ने एक हफ्ते तक केवल इसलिये मीड डे मील भोजन नहीं किया क्योंकि खाना बनाने वाला गरीब तबके के एक समुदाय का था। आखिर हम अपने बच्चों को क्या सिखा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि देश के ज्यादातर किसान चंद हजार रुपये का कर्ज न चुका पाने के चलते जान दे देते हैं, लेकिन विजय माल्या पर करोड़ रुपये का कर्ज बकाया होने के बावजूद वह एक नोटिस मिलने पर देश छोड़ कर भाग गया।

वरुण गांधी का रोहित वेमुला पर दिया बयान इस लिहास से अहम है क्योंकि इस मुद्दे पर तब मोदी सरकार की खूब किरकिरी हुई थी। केंद्रीय मंत्री दत्तात्रेय और फिर मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी का नाम आने के बाद विपक्ष ने इस मामले को खूब तूल दिया था। वहीं विजय माल्या के देश छोड़कर जाने के मसले पर भी कांग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियां मोदी सरकार पर सवाल खड़ी करती रही हैं।