हर रोज छापे जा रहे हैं 500 रुपये के 2 करोड़ 20 लाख नोट

नोटबंदी के बाद नोटों की किल्लत को दूर करने के लिए रोजाना छापे जा रहे है 500 रुपए के करीब 2 करोड़ 20 लाख नोट...

हर रोज छापे जा रहे हैं 500 रुपये के 2 करोड़ 20 लाख नोट

नोटबंदी के बाद अब बैंकों और एटीएम से पैसा निकालने के मामले में हालात अब भले ही काफी हद तक सामान्य नजर आ रहे हैं शुक्रवार को वित्त मंत्रालय ने कहा कि 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य के 500 रुपये के नए नोट छापे जा चुके हैं। प्रिंटिंग प्रेस में रोजाना 500 रुपये के करीब 2 करोड़ 20 लाख नोट छापे जा रहे हैं।

बीते साल 8 नवंबर को जब नोटबंदी हुई थी, तब भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पास 2,000 रुपये के नोटों की शक्ल में लगभग 4.95 लाख करोड़ नोट थे। उस समय भारतीय रिजर्व बैंक के पास 500 रुपये का एक भी नया नोट नहीं था। इसे बाद में छापा गया.गर्ग ने हालांकि वह तारीख बताने से इनकार कर दिया, जिस दिन से 500 रुपये के नए नोटों की छपाई शुरू हुई।

गर्ग के अनुसार हम 500 रुपये तथा अन्य कीमत के नोटों की छपाई कर रहे हैं, न कि 2,000 रुपये के नोटों की। सबसे बड़ी बात तो यह है कि नोटों की एक निश्चित मात्रा की छपाई में हमें पहले तीन दिन का समय लगता था, जबकि अब उतने ही नोट कुछ ही घंटों में छापे जा रहे हैं l

आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने इसी समारोह में कहा कि नोटों की जरूरतें पूरी करने के लिए एसपीएमसीआईएल सातों दिन चौबीसों घंटे तीन शिफ्टों में काम कर रहा है।