'2019 लोकसभा चुनाव में BJP को चुनौती देने के लिए राष्ट्रीय गठबंधन की जरुरत'

सीताराम येचुरी ने कहा कि 2019 के आम चुनावों में बीजेपी को चुनौती देने के वास्ते एक राष्ट्रीय गठबंधन बनाए जाने की आवश्यकता है।

माकपा प्रमुख सीताराम येचुरी ने कहा कि राजग सरकार की नीतियों के खिलाफ लोगों के असंतोष को दिशा देकर 2019 के आम चुनावों में बीजेपी को चुनौती देने के वास्ते एक राष्ट्रीय गठबंधन बनाए जाने की आवश्यकता है। येचुरी ने आगे कहा कि हम नीतियों और कार्यक्रमों के आधार पर फैसला करेंगे। क्योंकि केवल एकसाथ आ जाने का मतलब ही (विपक्ष की) एकजुटता नहीं है, यह केवल अंकगणित नहीं है। जब तक मेरा मानना है कि (2019 में) एक वैकल्पिक सरकार, एक धर्मनिरपेक्ष सरकार होनी चाहिए। हम यह नहीं कह रहे हैं कि हम किसी से हाथ मिलाएंगे। मैं जो बात उठाना चाहता हूं, वह यह है कि हम सांप्रदायिक शक्तियों की सरकार के खिलाफ एक वैकल्पिक सरकार बनाने पर काम करेंगे।

माकपा महासचिव ने सवालों का जवाब दे रहे थे कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव तक उभरते राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य को किस तरह देखते हैं। हाल में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मुलाकात के दौरान येचुरी ने कहा कि हालांकि बिहार में बीजेपी को सत्ता से दूर करने वाले महागठबंधन प्रयोग पर बातचीत हुई, लेकिन इसका कोई पहले से तय उत्तर नहीं हो सकता।

येचुरी ने कहा कि इसलिए, हमने उनसे (नीतीश) कहा कि उत्तर भी विगत में है जो हम देख चुके हैं, 1996 की स्थिति। वह भी एक उत्तर है। हमारा इतिहास आपको बताएगा।' वर्ष 1996 में चुनावों के बाद जनता दल, समाजवादी पार्टी, द्रमुक, तेदेपा, अगप, ऑल इंडिया कांग्रेस (तिवारी), चार वाम दलों, तमिल मानिला कांग्रेस, नेशनल कान्फ्रेंस और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी ने 13 दलों की संयुक्त मोर्चा सरकार बनाई थी।

सीताराम ने कहा, 'हमें देखना होगा कि किस तरह की स्थिति होती है। हमें स्थिति के आधार पर ही काम करना होगा। लेकिन 2019 तक गंगा में काफी पानी बह चुका होगा।' येचुरी ने मोदी सरकार की नीतियों को 'जन विरोधी' करार देते हुए उस पर संसद के महत्व को कम करने का आरोप लगाया।