अनुचित मांग पर इंडियन नेवी काे विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने लगाई फटकार

यमन में फंसे अधिकारी ने सुषमा से कुछ ऐसी मांग कर दी जो उन्हें नागवार गुजरी और विदेश मंत्री ने ट्वीट के जरिए ही उन्हें फटकार लगा दी।

अनुचित मांग पर इंडियन नेवी काे विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने लगाई फटकार

यमन में फंसे इंडियन नेवी के एक अधिकारी को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने फटकार लगाई है। सूत्राें के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, यमन के रास्ते क्रूड ऑयल लेकर हिन्दुस्तान आ रहे भारत के एक टैंकर ‘जग प्रभा’ का चीफ ऑफिसर यमन के अदन शहर में फंस गया था, उसने अपने ट्विटर हैंडल @AXssProhibited से एक ट्वीट सुषमा स्वराज को किया, जिसमें उन्हाेंने लिखा, ‘मैं और मेरी पत्नी यमन के अदन शहर में फंसे हैं। मैं भारतीय पोत जग प्रभा का चीफ ऑफिसर हूं। कृपया हमें भारत वापस भेजने में मदद करें।

इस पर सुषमा ने तुरंत जवाब देते हुए पूछा, ‘क्या आसपास भारतीय नेवी का कोई जहाज है और जग प्रभा पर आपलोग कितने शख़्स फंसे हैं।’ इसपर नेवी ऑफिसर ने कहा कि हमलोग कुल 23 भारतीय हैं जिन्हें बचाने की जरुरत है। इसके बाद सुषमा इनकी सुरक्षित रिहाई के लिए सक्रिय हो गईं और रक्षा मंत्री और नेवी को इन्हें वहां से वापस लाने के लिए अनुरोध किया। इस बीच यमन में फंसे अधिकारी ने सुषमा से कुछ ऐसी मांग कर दी जो सुषमा को पसंद नहीं आई और विदेश मंत्री ने ट्वीट के जरिए ही उन्हें फटकार लगाई दी।

हांलाकि, भारतीय नव सेना के अखिकारी सुब्रत शुक्ला ने इस मामले काे संज्ञान में लेते हुए ट्वीट किया कि 'अगर विदेश मंत्रालय यमन आने के मौजूदा सख़्त नियमों में कुछ ढील दे तो भारत से कुछ दूसरे अधिकारी यमन पहुंच कर उन्हें रिप्लेस कर सकते हैं।' ज्ञात हाे कि यहां यमन में चल रहे गृह युद्ध की वजह से MEA ने किसी भी भारतीय नागरिक के यहां आने पर सख़्त ट्रैवल एडवायजरी जारी कर दी है।

नेवी ऑफिसर की इस मांग से खफा सुषमा ने तुरंत ट्वीट कर उन्हें जवाब दिया कि आपने यमन की हालत से वाकिफ होकर भी हमारे ट्रैवल एडवायजरी की अवहेलना की और अब आप चाहते हैं कि आपकी ही तरह और हिन्दुस्तानी भी इस मुसीबत में फंस जाएं? उसके बाद सुब्रत शुक्ला ने केवल शुक्रिया कहकर बात खत्म दी। वहीं सुषमा ने अंत में इंडियन नेवी को धन्यवाद किया।