तमिलनाडु: पन्नीरसेल्वम के खेमे से मिली विधायकों को जान से मारने की धमकी

तमिलनाडु की राजनीति में मचे घमासान के बीच पुलिसवालों और रेवेन्यू अफसरों की एक टीम शनिवार सुबह उस लग्जरी रिजॉर्ट पर पहुंची, जहां एआईएडीएमके के 120 विधायकों को ठहराया गया है...

तमिलनाडु: पन्नीरसेल्वम के खेमे से मिली विधायकों को जान से मारने की धमकी

तमिलनाडु की राजनीति में मचे घमासान के बीच पुलिसवालों और रेवेन्यू अफसरों की एक टीम उस लग्जरी रिजॉर्ट पर पहुंची, जहां एआईएडीएमके के 120 विधायकों को ठहराया गया है। पन्नीरसेल्वम ने आरोप लगाया है कि शशिकला ग्रुप ने विधायकों को जबरन रोक रखा है और इनके सहारे बहुमत साबित करना चाहती है।

बता दें कि महाबलीपुरम के नजदीक स्थित इस रिजॉर्ट पर पहुंचने वाली टीम की अगुआई अडशिनल डिप्टी सुपरीटेंडेंट ऑफ पुलिस तमिलसेल्वन और डिस्ट्रिक्ट रेवेन्यू ऑफिसर रामाचंद्रन कर रहे थे। यह टीम सुबह करीब साढ़े 6 बजे वहां पहुंची। टीम के सदस्यों ने हर विधायक से अलग-अलग मुलाकात करके पूछताछ की। जानकारी के मुताबिक, अफसरों ने विधायकों से पूछा कि क्या उन्हें वहां जबरन रोककर रखा गया है या वे अपनी मर्जी से वहां रह रहे हैं

गौरतलब है कि अधिकारियों की जांच सुबह साढ़े छह बजे शुरू हुई और शाम साढ़े 11 बजे तक चली। तमिलसेल्वन ने पत्रकारों को बताया कि हाई कोर्ट के फैसले की वजह से उन्होंने हर विधायक से अलग-अलग पूछताछ की। अफसरों ने हर विधायक से लिखित में जवाब लिया। अधिकारियों ने बताया कि हर विधायक का जवाब सोमवार को कोर्ट में दाखिल किया जाएगा।

वहीं बाद में रिजॉर्ट में ठहरे दो विधायक केवी पन्नीरसेल्वम और सीके मोहन ने खुद आकर पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि वे रिजॉर्ट में खुद से रह रहे हैं और उन्हें किसी ने धमकाया या जबरदस्ती नहीं की। वहीं, एक अन्य एमएलए रामालिंगम से जब यह पूछा गया कि उन्होंने एमएलए हॉस्टल में रहना क्यों नहीं पसंद किया, विधायक ने कहा कि उन्हें पन्नीरसेल्वम खेमे से धमकी मिली है। एमएलए ने कहा, 'हम अपनी सुरक्षा के मद्देनजर रिजॉर्ट में रह रहे हैं। हमें मौत की धमकियां मिल रही हैं।' उन्होंने दावा किया कि पन्नीरसेल्वम कभी पार्टी के लिए वफादार नहीं रहे। विधायक ने कहा, 'हमें किडनैप नहीं किया गया। परन्नीरसेल्वम को डीएमके ने किडनैप कर लिया। गवर्नर के न्योता देते ही चिनम्मा (शशिकला) सरकार बनाएंगी।