ऑपरेशन के बहाने डॉक्टरों ने निकाले 2200 महिलाओं के गर्भाशय

पैसों के लिए डॉक्टरों ने 2200 महिलाओं का ऑपरेशन के दौरान निकाले गर्भाशय। पेट दर्द जैसी छोटी बीमारी होने पर भी इलाज के लिए गईं महिलाओं का ऑपरेशन करने को कहा गया। ऑपरेशन के दौरान गर्भाशय में संक्रमण की बात कहकर उसे निकाल दिया।

ऑपरेशन के बहाने डॉक्टरों ने निकाले 2200 महिलाओं के गर्भाशय

कर्नाटक में डॉक्टरों की काली करतूतों का भंडाफोड़ हुआ है। पैसों के लिए डॉक्टरों द्वारा लाम्बिनी और दलित समुदाय की 2200 महिलाओं का ऑपरेशन के दौरान गर्भाशय निकालने का मामला प्रकाश आया है।

'टाइम्स ऑफ इंडिया' में छपी खबर के मुताबिक, कर्नाटक के कुलबर्गी में चल रहे इस रैकेट का भंडाफोड़ लगभग डेढ़ साल पहले हुआ था। उस समय स्वस्थ्य विभाग की टीम ने मामले की जांच कर अस्पतालों का लाइसेंस भी रद्द कर दिया था, लेकिन इसके वाबजूद इन अस्पतालों ने अपना कालाधंधा चालू रखा। रैकेट का पर्दाफाश अगस्त 2015 में हुआ था और अक्टूबर 2015 में स्वास्थ्य विभाग की जांच समिति ने 4 अस्पतालों के लाइसेंस रद्द कर दिए थे लेकिन बाद में अस्पताल में कार्य चालू रहा।

सोमवार को हजारों की संख्या में प्रभावित महिलाओं और कार्यकर्ताओं ने कलबुर्गी उपायुक्त के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं ने गैर सरकारी संगठनों जैसे वैकल्पिक कानून फोरम, विमोचना और बंगलुरु में स्वराज अभियान के माध्यम से अपनी आवाज उठाई। महिलाओं व प्रदर्शन कर रहे संगठनों का कहना है कि इस घोर मानवाधिकार का उल्लंघन करने वाले अस्पतालों व डॉक्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो और उन्हें सजा मिलनी चाहिए।

महिला आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए मामले को उठाया था और उसी साल अपनी रिपोर्ट दायर की। स्वस्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया कि महिलाओं का गर्भाशय निकालने के लिए की गई सर्जरी अनावश्यक थी। महिलाओं को छोटी-मोटी समस्याएं थी, ऐसी नहीं कि उनका गर्भाशय निकालना पड़े।

जानकारी के मुताबिक, पेट दर्द जैसी छोटी बीमारी होने पर भी इलाज के लिए गईं महिलाओं का ऑपरेशन करने को कहा गया। ऑपरेशन के दौरान गर्भाशय में संक्रमण की बात कहकर उसे निकाल दिया गया। स्वास्थ्य विभाग ने फाइल की गई रिपोर्ट में बताया, 'डॉक्टरों का शिकार हुईं ज्यादातर महिलाओं को पेट और पीठ में दर्द की समस्या थी।'

इन महिलाओं ने अपनी समस्याओं के लिए जब डॉक्टरों से संपर्क किया तो पहले उन्हें अल्ट्रासाउंड करवाने को कहा गया फिर थोड़ी सी दवा दे दी गई और दोबारा आने को कहा गया। जिन महिलाओं को समस्या से निजात नहीं मिली उनसे कहा गया कि गर्भाशय का ऑपरेशन नहीं कराने पर यह कैंसर का रुप भी ले सकता है। ज्यादातर मामलों में यही घटनाक्रम सामने आया। इन महिलाओं को किसी भी अन्य उपचार का विकल्प नहीं दिया गया और कैंसर विकसित होने के डर से महिलाओं को गर्भाशय निकलवाना पड़ा।