केंद्रीय मंत्री उमा भारती को महाकाल पर जल चढ़ाने से रोका, बैठी धरने पर

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती को प्रशासन ने शुक्रवार को महाशिवरात्रि के मौके पर द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में गर्भगृह में जल चढ़ाने से रोक दिया था, जिससे वह नाराज होकर नंदी हॉल के बाहर धरने पर बैठ गई थी।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती को महाकाल पर जल चढ़ाने से रोका, बैठी धरने पर

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती को प्रशासन ने शुक्रवार को महाशिवरात्रि के मौके पर द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में गर्भगृह में जल चढ़ाने से रोक दिया था, जिससे वह नाराज होकर नंदी हॉल के बाहर धरने पर बैठ गईं। उन्हें बाद में इसकी इजाजत दे दी गई और फिर उन्होंंने गर्भगृह में जाकर पूजा की।

इस मंदिर में महाशिवरात्रि के दिन भक्तों की भारी भीड़ होने के कारण महंत और पुजारियों के अलावा अन्य किसी व्यक्ति को गर्भगृह में जाने की अनुमति नहीं दी जाती है। केंद्रीय मंत्री के अचानक पहुंचने से भीड़ बढ़ जाने की आशंका जताते हुए उन्हें गर्भगृह में प्रवेश करने से रोक दिया गया था।

उमा भारती ने कहा कि यह दिन हम लोगों का होता है, हम लोग ही बाबा को जल चढ़ाते हैं, यहां के प्रशासन ने मुझे रोक कर नासमझी का परिचय दिया है, साधु-संतों को जल चढ़ाने से रोका है। गर्भगृह में किसको जल चढ़ाना है, यह तय करने का अधिकार पुलिस-प्रशासन का बिल्कुल नहीं है, भीड़ को नियंत्रित करने का काम पुलिस और प्रशासन का है। उन्होंने कहा कि वह दीक्षा प्राप्त साध्वी हैं और एक साध्वी की हैसियत से उन्होंने पूजा की है।