जियो की फ्री-सर्विस के खिलाफ वोडाफोन पहुंची हाई कोर्ट

एक तरफ जहां मुकेश अंबानी रिलायंस जियो के नए प्राइम ऑफर्स का ऐलान कर रहे थे वहीं दूसरी तरफ दिल्ली हाई कोर्ट में वोडाफोन की तरफ से जियो के खिलाफ नियम तोड़ने का आरोप लगाया जा रहा था।

जियो की फ्री-सर्विस के खिलाफ वोडाफोन पहुंची हाई कोर्ट

मगंलवार को जहां मुकेश अंबानी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जहां प्राइम ऑफर पेश कर जियो ग्राहकों को तोहफा दिया वहीं दूरसंचार कंपनी वोडाफोन इंडिया ने फ्री वॉयस कॉल ऑफर के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में अपनी बात रखी. वोडाफोन ने कहा कि वह रिलायंस जियो द्वारा उपलब्ध कराई जा रही नि:शुल्क वॉयस सेवाओं से खिन्न है क्योंकि यह ट्राई के शुल्क दर आदेशों का उल्लंघन है.

कंपनी ने आरोप लगाया है कि फ्री वॉयस कॉल और 90 दिनों से ज्यादा प्रोमोशनल ऑफर रख कर रिलायंस जियो ने IUC और TRAI के टैरिफ नियमों को तोड़ा है। वोडाफोन ने कोर्ट में यह भी कहा कि जियो के नियम तोड़े जाने से दुखी है।

इस आरोप के बाद रिलायंस जियो ने कहा कि TRAI द्वारा दिए गए क्लीन चिट के बाद भी अगर वोडाफोन दुखी है तो इसे दूसरी कंपनियों की तरह टेलीकॉम डिस्प्यूट सेटलमेंट अपिलेट (TDSAT) के पास चैलेंज करना चाहिए। गौरतलब है कि जियो के ऑफर्स के खिलाफ भारती एयरटेल और आइडिया TDSAT के पास भी अर्जी डाली है।

येबीत किसी से छीपी नहीं है की टेलिकॉम इंडस्‍ट्री में क्रांति लाने वाले रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने अपने जियो ग्राहकों के लिए नए आकर्षक ऑफर पेश किए हैं. इसके तहत मुकेश अंबानी ने एक नया प्राइम ऑफर पेश किया है. इस ऑफर की अवधि एक मार्च से 31 मार्च, 2017 तक होगी. इस प्रस्‍तावित अवधि के भीतर मेंबरशिप लेने वाले मौजूदा और नए ग्राहकों को केवल एक बार एकमुश्‍त 99 रुपये की फीस देनी होगी. इससे वह इस नए प्‍लान प्राइम ऑफर के मेंबर बन जाएंगे. उसके बाद एक अप्रैल से अगले 31 मार्च, 2018 तक यानी एक साल तक उनको इस ऑफर के तहत 303 रुपये के मासिक कीमत पर अनलिमिटेड डाटा, वॉयस एवं मीडिया सर्विसेज मिलेंगी. यानी एक मोटे अनुमान के मुताबिक एक अप्रैल से प्रतिदिन लगभग 10 रुपये की कीमत पर जियो की अनलिमिटेड सुविधाएं मिलेंगी.