गुरमेहर विवाद- अभिव्यक्ति के नाम पर क्या भारत माता को गाली देना चाहिए : गिरिराज सिंह

गुरमेहर विवाद पर गिरिराज बोले- अभिव्यक्ति के नाम पर क्या भारत माता को गाली देना चाहिए?

गुरमेहर विवाद- अभिव्यक्ति के नाम पर क्या भारत माता को गाली देना चाहिए : गिरिराज सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज विवाद पर अब  केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का बयान सामने आया है, उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति के नाम पर क्या भारत माता को गाली देना चाहिए?

वहीं केंद्रीय मंत्री ने साक्षी महाराज के बयान का भी समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि दुनिया के कई देशों में जगह की कमी होने के कारण शवों को जलाया जा रहा है. दुनिया ने सनातन हिंदू धर्म की अच्छाइयों को मानकर स्वीकार किया है. उन्होंने पूछा कि अपने ही देश में इसका क्यों विरोध किया जा रहा है. साक्षी महाराज के बयान पर विरोध नहीं बल्कि बहस होनी चाहिए.

क्या है पूरा मामला

दिल्ली के रामजस कॉलेज में एक सेमिनार होने वाला था। इसमें जेएनयू के स्टूडेंट लीडर उमर खालिद और शहला राशिद को इनवाइट किया गया था। ABVP ने इसका जमकर विरोध किया, क्योंकि खालिद पर जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी करने का आरोप है।
इसके बाद बीते बुधवार को AISA और ABVP के सपोर्टर्स के बीच भारी हिंसा हुई। कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन को सेमिनार कैंसल करना पड़ा।


कौन हैं गुरमेहर? विवाद में कैसे आई...
गुरमेहर लेडी श्रीराम कॉलेज में इंग्लिश लिटरेचर की स्टूडेंट हैं। वे मूल रूप से लुधियाना की रहने वाली हैं। पिता कैप्टन मंदीप सिंह कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स के कैम्प पर 1999 में आतंकी हमले में शहीद हो गए थे।

 इस कॉन्ट्रोवर्सी में उनकी एंट्री तब हुई, जब उन्होंने 22 फरवरी को अपना फेसबुक प्रोफाइल पिक्चर बदला और ‘सेव डीयू कैम्पेन’ शुरू किया।
उसने #StudentsAgainstABVP हैशटैग के साथ लिखा- "मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ती हूं। ABVP से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर स्टूडेंट मेरे साथ है। ABVP का बेगुनाह स्टूडेंट्स पर किया गया हमला परेशान करने वाला है और इसे रोका जाना चाहिए। यह हमला प्रोटेस्ट कर रहे लोगों पर नहीं था, बल्कि यह डेमोक्रेसी के हर उस विचार पर हमला था।’