मैंने माफी मांग ली, अब क्या फांसी पर चढ़ जाऊं : मस्तान

बिहार के मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी पर दी आपत्तिजनक टिप्पणी, परिवाद पत्र दायर होने के बाद मंत्री ने मांगी माफी, कहा- मैंने अपने बयान के लिए माफी मांगी ली है, अब क्या फांसी पर चढ़ जाऊं ?

मैंने माफी मांग ली, अब क्या फांसी पर चढ़ जाऊं : मस्तान

प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले बिहार के मंत्री अब्दुल जलील मस्तान की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। मामले में उनके खिलाफ बीजेपी के विधायक नितिन नवीन ने पटना में केस दर्ज करवाया है और जलील मस्तान की नागरिकता की भी जांच करने की मांग की गई है। बीजेपी मंत्री की बर्खास्तगी को लेकर अड़ुी हुई है।

उल्लेखनीय है कि बुधवार को बिहार के वैशाली जिला की एक कोर्ट में मद्य निषेध एवं उत्पाद मंत्री अब्दुल जलील मस्तान समेत पांच दूसरे लोगों पर पीएम मोदी के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने को लेकर एक परिवाद पत्र दायर किया गया। इस बीच मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने कहा है कि मैंने अपने बयान पर माफी मांग ली है, अब क्या फांसी पर चढ़ जाऊं? मस्तान ने आगे कहा कि अगर उनके बयान से किसी को दुख पहुंचा है तो इसके लिए माफी मांगते हैं।

बिहार के मद्य निषेध एवं उत्पाद मंत्री जलील मस्तान के पूर्णिया जिला स्थित अमौर विधानसभा क्षेत्र में नोटबंदी के विरोध में गत 22 फरवरी को आयोजित एक कार्यक्रम का वीडियो जारी हुआ था। इस वीडियाे में मंत्री काे प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ विवादित टिप्पणी करते हुए दिखाया गया था। वीडियो में मस्तान को लोगों से यह कहते हुए दिखाया गया कि वे उनकी (मोदी) की तस्वीर पर जूते मारें। इस दौरान मंत्री ने पीएम मोदी के खिलाफ कई आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था।

हालांकि, मंत्री ने बाद में मामला उठता देख इस पर खेद प्रकट जताते हुए ऐसी बातें स्वयं द्वारा बोले जाने से इनकार करते हुए कहा कि इसकी जांच कर करवाई की जा सकती है। मस्तान ने कहा कि प्रधानमंत्री आदरणीय हैं और कोई ‘पागल’ ही होगा जो ऐसा बोल सकता है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद ने भी मंत्री की टिप्पणी को गलत करार दिया।