जवाहरबाग कांड: HC ने दिए CBI जांच के आदेश

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मथुरा के जवाहर बाग कांड की जांच सीबीआई को सौंप दी है।

जवाहरबाग कांड: HC ने दिए CBI जांच के आदेश

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मथुरा के जवाहर बाग कांड की जांच सीबीआई को सौंप दी है। दरअसल, हाई कोर्ट अब तक हो रही जांच से असंतुष्ट थी। मामले की जांच सीबीआई से कराने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ये फैसला लिया है। कोर्ट ने इस मामले की जांच के आदेश सीबीआई को सौंप दिए हैं। कोर्ट यूपी पुलिस के जांच के तरीकों से संतुष्ट नहीं थी।

उल्लेखनीय है कि 2 जून को हुई यहां हिंसा के बाद मथुरा पु‍लिस के सर्च ऑपरेशन में यहां बम डिस्पोजल स्क्वॉयड और फॉरेंसिक टीम को गन पाउडर, सल्फर, पोटास, इलेक्‍ट्रॉनिक प्‍लेट और लोहे के छर्रे मिले थे। पुलिस ने मंगलवार को ये भी खुलासा किया कि इन सबके साथ यूएस निर्मित रॉकेट लॉन्‍चर भी बरामद किया गया था। मथुरा बम डिस्पोजन स्क्वॉयड प्रभारी रामपाल सिंह ने मामले में सदर थाने में मामला दर्ज करवाया था।

जांच कर रहे सब इंस्‍पेक्‍टर नंदलाल सिंह ने कहा था कि रॉकेट लॉन्‍चर की जांच की जा रही है कि यह रामवृक्ष यादव के पास कैसे पहुंचा था, किस व्यक्ति ने उसके लिए लॉन्चर जैसे हथियार मुहैया कराए। ज्ञात हो कि 2 मई को कार्रवाई के दौरान अतिक्रमणकारियों के पास से मिले हथियारों और ऑपरेशन के वक्त हुए धमाकों से उठी रंगीन लपटों को देख पुलिस को जवाहर बाग में बड़ी मात्रा में विस्‍फोटक की आशंका हुई थी जिसके बाद बम डिस्पोजल स्‍क्‍वॉयड और एंटी सबोटाइज की टीमें 280 एकड़ में फैले जवाहर बाग की जांच कर रही थी। परिसर में कई जगह गड्‌ढे करके हथियार छुपाए गए थे।

ज्ञात हो कि जवाहर बाग में हुई हिंसा में 27 लोगों की मौत हुई थी जिसमें दो पुलिस अधिकारी भी शहीद हुए थे। जवहार बाग पर अतिक्रमणकारियों के नेता आरोपी रामवृक्ष यादव ने पिछले दो साल से कब्जा कर रखा था। उसने जवाहर बाग परिसरक को छावनी में तब्दील कर लिया था। उसके डर बाग में मौजूद कई अधिकारी अपने कार्यालय और सरकारी घर छोड़कर चले गए थे।