मप्र सरकार के अधिकारी मेरा फोन तक नहीं उठाते: बाबूलाल गौर

मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर ने मंगलवार को विधानसभा में अपने ही दल बीजेपी की सरकार को घेरते हुए आरोप लगाया कि लोगों की समस्याओं को लेकर वह अधिकारियों से बात करने के लिए फोन करते हैं, लेकिन उनका कोई फोन तक नहीं उठाता है।

मप्र सरकार के अधिकारी मेरा फोन तक नहीं उठाते: बाबूलाल गौर

मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर ने मंगलवार को विधानसभा में अपने ही दल बीजेपी की सरकार को घेरते हुए आरोप लगाया कि लोगों की समस्याओं को लेकर वह अधिकारियों से बात करने के लिए फोन करते हैं, लेकिन उनका कोई फोन तक नहीं उठाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रश्नकाल में राजधानी के कचरा फेंकने वाली जगह के कारण फैल रहे प्रदूषण संबंधी सवालों पर प्रदेश की नगरीय प्रशासन मंत्री माया सिंह के जवाब के दौरान गौर ने यह आरोप लगाया।

गौर ने कहा कि सरकार ने मेरे प्रश्न के उत्तर में आंशिक जानकारी दी है। मैंने कई बार विवेक अग्रवाल को फोन किया, लेकिन उन्होंने कभी मेरा फोन नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नौकरशाही की यह स्थिति है। अग्रवाल प्रदेश के नगरीय प्रशासन विभाग के सचिव-आयुक्त होने के साथ ही सीएम के सचिव भी हैं।

वहीं नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस के विधायक अजय सिंह ने गौर का समर्थन करते हुए कहा कि अधिकारी जब प्रदेश के पूर्व सीएम की ही नहीं सुन रहे हैं तो अन्य लोगों के साथ क्या करते होंगें। उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ बीजेपी के पूर्व मुख्यमंत्री की यह स्थिति है तो यह अनुमान लगाया जा सकता है कि अधिकारी दूसरे लोगों के साथ कैसा व्यवहार करते होगें।

बाबूलाल गौर ने एक रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए दावा किया कि शहर का कूड़ा डालने के मैदान से होने वाले प्रदूषण के कारण इसके आसपास की कॉलोनियों में रहने वाले 93 प्रतिशत लोग गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं। उन्होंने कहा कि भोपाल नगर निगम के लगभग 6-7 वार्ड कचरे के मैदान से होने वाले प्रदूषण की चपेट में हैं।