चलती ट्रेन के शौचालय से गिरा नवजात, नहीं आई बच्चे को खरोंच

कानपुर में एक बहुत ही अजीबो गरीब चमत्कार देखने को मिला चलती ट्रेन में एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया। महिला ने ट्रेन के शौचालय में बच्चे को जन्म दिया तो बच्चा शौचालय से निचे पटरियों के बीच गिर गया...

चलती ट्रेन के शौचालय से गिरा नवजात, नहीं आई बच्चे को खरोंच

कानपुर में एक बहुत ही अजीबो गरीब चमत्कार देखने को मिला चलती ट्रेन में एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया। महिला ने ट्रेन के शौचालय में बच्चे को जन्म दिया तो बच्चा शौचालय से निचे पटरियों के बीच गिर गया। ट्रेन तो चली गई, लेकिन पास ही मौजूद एक चरवाहा दंपति ने बच्चा उठा लिया। पटरी पर गिरने से बच्चे को बहुत हल्की चोटें आई हैं।

बता दें कि शुक्लागंज स्टेशन के पास पटरियों के बीच गिरा एक मासूम रो रहा था। इसी बीच बकरियां चरा रहे शुक्लागंज निवासी लाला-रूही दंपति ने बच्चे के रोने की आवाज सुनी तो पटरियों पर पहुंचे। दंपति ने पाया कि वहां एक नवजात पड़ा है जिसकी नाल भी नहीं कटी थी।उसके शरीर पर चोट के निशान थे जो गिरने से आए थे।

गौरतलब है कि पति-पत्नी ने फौरन नवजात बच्चे को उर्सला अस्पताल में भर्ती कराने पहुंचे। फिलहाल बच्चे को खतरे से बाहर बताया जा रहा है। दंपत्ति ने कहा कि अभी तो यह बच्चा मेरे ही पास है लेकिन अगर इसकी मां तलाश करते हुए आ गई तो हम बच्चे को उसकी मां को सौप देंगे और अगर कोई इस बच्चे को लेने नहीं आया तो हम इस बच्चे की परवरिश करेंगे। उन्होंने कहा कि थाने से पुलिस आयी थी और बच्चे के बारे में पूछ रही थी, लेकिन अभी हम बच्चे की देखभाल कर रहे हैं। वो कहते है ना जाको राखे साइयां, मार सके न कोय।