नोटबंदी के दौरान बैंकों के करेंसी चेस्ट में हुए घोटाले, आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज

स्टेट बैंक आफ मैसूर के करेंसी चेस्ट के एक हेड कैशियर रघुवीर भट्ट ने छुट्टी वाले दिन ही करेंसी चेस्ट से 50 लाख के पुराने नोट बदल लिए। आरोपी ने 100 और 50 के नोटों की जगह 1000 और 500 के नोट रख दिए।

नोटबंदी के दौरान बैंकों के करेंसी चेस्ट में हुए घोटाले, आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज

बैंकों के करेंसी चेस्ट में से पैसे गायब होने की सूचना के बाद हड़कंप मचा हुआ है। इस घोटाले का पर्दाफाश होने के बाद अधिकारी भी हैरान हैं क्योंकि करेंसी चेस्ट काफी संवेदनशील जगह होती है और वहां बैंक के भी कम लोगों की पहुंच होती है।

आरोप है कि स्टेट बैंक आफ मैसूर के करेंसी चेस्ट के एक हेड कैशियर रघुवीर भट्ट ने छुट्टी वाले दिन ही करेंसी चेस्ट से 50 लाख के पुराने नोट बदल लिए। आरोपी ने 100 और 50 के नोटों की जगह 1000 और 500 के नोट रख दिए। एक अन्य हेड कैशियर रविराज ने बैंक की दूसरी शाखा से आने वाले 2000 के नए नोटों की बदले हजार के पुराने नोटों से बदल लिया।

इस कर्मचारी ने 20 लाख रुपए के नोट बदले दिए। इसके साथ ही कैश रजिस्टर पर स्याही गिरा दी जिससे रकम पढ़ने में ना आ सके। एक अन्य हैड कैशियर बी. दिनेश ने करेंसी चेस्ट में आने वाली ग्राहकों की पर्चियों में गोलमाल कर दो करोड 18 लाख रुपये के नोट बदल लिए।

सीबीआई ने इन सभी मामलों में आपराधिक धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के बाद बैंकों में गड़बड़ी करने वाले कई कर्मचारियों के नाम सामने आए थे। इसके साथ ही कईयों को गिरफ्तार किया गया था। इनपर करोड़ों रुपए इधर-उधर करने का आरोप है।