बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की किमत में 86 रूपए की वृद्धि

अगर देश में मंहगाई के आंकड़े देखे जाए तो लगता है कि चीजें सस्ती हो गई हैं। लेकिन पेट्रोलियम पदार्थों को देखे तो उनकी लगातार बढ़ती कीमतों के चलते लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है...

बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की किमत में 86 रूपए की वृद्धि

अगर देश में मंहगाई के आंकड़े देखे जाए तो लगता है कि चीजें सस्ती हो गई हैं। लेकिन पेट्रोलियम पदार्थों को देखे तो उनकी लगातार बढ़ती कीमतों के चलते लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि रसौईघर में इस्तेमाल होने वाले जो कि बिना-सब्सिडी के हैं उनके ऊपर 86 रूपए प्रति सिलेंडर बढ़ गया है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में दाम बढ़ने की वजह से यहां भी दाम बढ़ा दिये गये हैं। बिना-सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर अब 86 रुपये बढ़कर 737.50 रुपये में मिलेगा। बिना सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर उन लोगों को लेना होता है जिन्होंने गैस-सब्सिडी छोड़ दी है या फिर जिनका 14.2 किलो के सब्सिडीशुदा 12 सिलेंडर का कोटा पूरा हो चुका है।

वहीं बिना-सब्सिडी वाले सिलेंडर के दाम में यह एकमुश्त अब तक की सबसे बड़ी बढ़ोतरी है।इससे पहले एक फरवरी को इसके दाम में 66.5 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़त की गई थी। बिना-सब्सिडी वाले 14.2 किलो के सिलेंडर का दाम कल तक 651.50 रुपये था।

साथ ही अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम पदार्थों के दाम अक्तूबर 2016 के बाद से बढ़ रहे हैं।सितंबर 2016 में दिल्ली में बिना-सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 466.50 रुपये का था। उसके बाद से 6 किस्तों में यह 271 रुपये यानी 58 फीसदी महंगा हो चुका है।

गौरतलब है कि कंपनियों ने सब्सिडीशुदा रसोई गैस सिलेंडर का दाम भी मामूली 13 पैसे बढ़ाकर 434.93 रुपये प्रति सिलेंडर कर दिया। इससे पहले एक फरवरी को इसमें 9 पैसे की बढ़ोतरी की गई थी। 2 मामूली बढ़त से पहले सब्सिडीशुदा गैस के दाम 8 बार बढ़े हैं और हर बार करीब 2 रुपये की इसमें वृद्धि की गई।