RTI खुलासा: नोटबंदी के 15 दिन बाद छपने शुरू हुए थे 500 के नए नोट

देश में जहां नोटबंदी लागू होने के ढाई महिने पहले से 2000 रुपये के नोट छपने शुरू हो गए थे। वहीं आरटीआई में खुलासा हुआ है कि 500 रुपये के नोट नोटबंदी की घोषणा के पंद्रह दिन बाद छपने शुरू हुए थे...

RTI खुलासा: नोटबंदी के 15 दिन बाद छपने शुरू हुए थे 500 के नए नोट

देश में जहां नोटबंदी लागू होने के ढाई महिने पहले से 2000 रुपये के नोट छपने शुरू हो गए थे। वहीं आरटीआई में खुलासा हुआ है कि 500 रुपये के नोट नोटबंदी की घोषणा के पंद्रह दिन बाद छपने शुरू हुए थे। मध्यप्रदेश के मालवा अंचल के नीमच जिले के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने यह खुलासा किया है। उन्होंने आरटीआई के तहत मिली जानकारी के आधार पर इस तथ्य को सार्वजनिक किया।

बता दें कि गौड़ द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक आरटीआई से ये साफ हुआ है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक यूनिट ने सरकार द्वारा नोटबंदी की घोषणा करने से करीब ढाई महिने पहले 2000 रुपये के नए नोटों की छपाई शुरू कर दी थी। इस घोषणा के एक पखवाड़े बाद 500 रुपये के नए नोटों की छपाई आरंभ की गई थी।

वहीं चंद्रशेखर गौड़ का कहना है कि जानकरी के अधिकार के तहत दिए गए उनके आवेदन पर भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड (बीआरबीएनएमपीएल) से मिले जवाब में उक्त जानकारी दी गई है। बेंगलुरु में स्थित बीआरबीएनएमपीएल के एक अफसर ने अर्जी के जवाब में बताया है कि इस इकाई में 2000 रुपये के नए नोटों की छपाई का पहला चरण 22 अगस्त 2016 को शुरू किया गया था, जबकि 500 रुपये के नए नोटों की छपाई का पहला चरण 23 नवंबर 2016 आरंभ हुआ था।

गौरतलब है कि आरबीआई द्वारा साल 1995 में स्थापित कम्पनी ने गौड़ की आरटीआई अर्जी के एक अन्य सवाल के जवाब  में बताया कि इस इकाई में 500 रुपये के पुराने नोटों की छपाई का आखिरी चरण 27 अक्टूबर 2016 को खत्म हुआ था।वहीं एक हजार के पुराने नोटों की छपाई का आखिरी चरण 28 जुलाई 2016 को खत्म हो गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर 2016 को रात में अपने टेलीविजन संदेश में नोटबंदी की घोषणा की थी। इसमें कहा गया था कि 500 और 1000 रुपये के नोट अब वैध नहीं रहेंगे।