"पुलिस के पास कन्हैया के मामले में देशद्रोह साबित करने के पर्याप्त सबूत नहीं"

दिल्ली पुलिस देशद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ सबूत जुटाने में नाकाम रही है।

"पुलिस के पास कन्हैया के मामले में देशद्रोह साबित करने के पर्याप्त सबूत नहीं"



दिल्ली पुलिस  देशद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के खिलाफ सबूत जुटाने में नाकाम रही है। बता दें कि पिछले साल जेएनयू कैंपस में हुए एक कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने का कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य पर आरोप लगा था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में पुलिस ने जो चार्जशीट तैयार की है, उसमें उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को आरोपी बनाया गया है। पुलिस का कहना है कि उमर खालिद के पास कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रविरोधी पोस्टर्स थे।

इस चार्जशीट को सेक्शन 121 ए और कई दूसरे आपराधिक षड्यंत्र के तहत तैयार किया गया है। वहीं चार्जशीट में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों से जुड़ी 40 वीडियो के फॉरेंसिक रिपोर्ट को भी शामिल किया गया है, लेकिन पुलिस कन्हैया के खिलाफ सबूत जुटाने में असफल रही है।

वहीं पुलिस ने कन्हैया के खिलाफ आरोपों को नकारा भी नहीं है। उन्होंने कन्हैया का मामला कोर्ट पर छोड़ दिया है कि उसे आरोपी बनाया जाए या नहीं।