मेरी छवि को जिस तरह खराब किया गया उसकी क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकतीः जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि मेरी छवि को जिस तरह खराब किया गया उसकी क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकती है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि मामले में सोमवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली अपना पक्ष रखते हुए कई बार भावुक हो गए।

मेरी छवि को जिस तरह खराब किया गया उसकी क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकतीः जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि मेरी छवि को जिस तरह खराब किया गया उसकी क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकती है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि मामले में सोमवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली अपना पक्ष रखते हुए कई बार भावुक हो गए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जेटली ने कहा कि मैंने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में कभी भी राजनीतिक आलोचना को लेकर कुछ भी नहीं कहा लेकिन इस बार मुझे अदालत में आकर मानहानि का मुकदमा करना पड़ा क्योंकि इस बार मेरी निष्ठा और सच्चाई पर सवाल खड़े किए गए।

जेटली ने कहा कि मेरी छवि को जिस प्रकार खराब किया गया उसकी क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकती है। इस पर केजरीवाल की ओर से पेश सीनियर वकील राम जेठमलानी ने जेटली से सवाल पूछा कि वो इस बात को समझाएं कि कैसे उनके सम्मान को पहुंचे चोट की भरपाई नहीं की जा सकती और क्या ये नुकसान मापे जाने योग्य नहीं है। क्या आपके सम्मान को पहुंचे चोट का मामला महानता के आपके निजी एहसास से तो जुड़ा नहीं है। जवाब में जेटली ने कहा ‘मेरे सम्मान की जितनी बड़ी हानि हुई है, उसका आकलन करना मुश्किल है। जेठमलानी ने जेटली से पूछा कि आपने ये किस तरह तय कर लिया कि आपके सम्मान की भरपाई नहीं हो सकती है। अदालत में राम जेठमलानी की ओर से जेटली के लिए 52 सवाल रखे गए। ज्ञात हो कि आप ने आरोप लगाया है कि जब जेटली डीडीसीए के प्रमुख थे तब वो और उनका परिवार संस्था में आर्थिक कुप्रबंधन के लिए जिम्मेदार थे। इस पर जेटली ने मानहानि का केस किया था।

उधर दिल्ली की एक अदालत ने राज्यसभा सदस्य सुभाष चंद्रा की तरफ से दायर आपराधिक मानहानि की शिकायत मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आरोपी के तौर पर तलब किया। केजरीवाल को 29 जुलाई को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया गया है। अदालत ने कहा कि धारा 500 के तहत आरोपी अरविंद केजरीवाल को तलब करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं। सुभाष चंद्रा ने नोटबंदी के बाद उनके खिलाफ गलत आरोप लगाए जाने पर केजरीवाल के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया था।