अफसर पर बोतल फेंककर विराट ने किया विलेन जैसा काम: AUS मीडिया

बेंगलुरु टेस्ट में हुए डीआरएस विवाद के बाद से भारत और ऑस्ट्रेलिया के खेमे में बयानों की जंग जारी है।

अफसर पर बोतल फेंककर विराट ने किया विलेन जैसा काम: AUS मीडिया

बेंगलुरु टेस्ट में हुए डीआरएस विवाद के बाद से भारत और ऑस्ट्रेलिया के खेमे में बयानों की जंग जारी है। ऑस्ट्रेलिया मीडिया विवाद को हवा दे रहा है। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया के मुताबिक, विराट कोहली ने पूरे मामले में विलेन जैसा बर्ताव किया।

क्या है पूरा मामला
- 'द डेली टेलीग्राफ' ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि विराट कोहली ने एक ऑस्ट्रेलियाई अफसर को एनर्जी ड्रिंक की बोतल फेंक कर मारी थी।
- अखबार ने विराट कोहली पर यह भी आरोप लगाया कि उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई बॉक्स की ओर अश्लील भाषा का इस्तेमाल करने के साथ ही बल्लेबाज पीटर हैंड्सकोंब की ओर देख लेने के अंदाज में इशारा भी किया था।
- इसके साथ ही न्यूजपेपर ने विराट कोहली को विलेन बताते हुए उनकी तुलना श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा से की और उन्हें खेल भावना को ठेस पहुंचाने वाला बताया है।
- रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस मैच में उनकी ओर से कई बार खेल भावना को ताक पर रखा गया। अन्य अखबारों ने भी विराट को विलेन बताते हुए उन्हें क्रिटिसाइज किया।

कुंबले पर भी आरोप
- 'दे डेली टेलीग्राफ' ने यह भी आरोप लगाया है कि भारतीय कोच अनिल कुंबले दूसरी पारी में विराट कोहली को आउट दिए जाने के बाद उस पर क्लैरिफिकेशन मांगने के लिए मैच के दौरान ही अफसरों के बॉक्स में घुस गए थे।
- न्यूजपेपर ने यह भी लिखा है कि 2007-08 की बॉर्डर-गावसकर सीरीज के दौरान हरभजन सिंह और एंड्र्यू साइमंड्स के बीच हुए मंकीगेट विवाद में भी कुंबले ने मुख्य भूमिका निभाई थी। कुंबले ने इन सबमें पर्दे के पीछे से भूमिका निभाई है।
दोनों देशों के बोर्ड बोले- मामला सुलझा लिया गया
- बेंगलुरु टेस्ट में पैदा हुए डीआरएस विवाद में बड़ा ही नाटकीय मोड़ देखने को मिला जब बीसीसीआई ने इस मुद्दे पर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ और पीटर हैंड्सकोंब के खिलाफ आईसीसी में शिकायत दर्ज कराने की घोषणा की और कुछ घंटों बाद ही क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए)के साथ एक संयुक्त बयान जारी कर शिकायत वापस लेने की जानकारी दी। - बीसीसीआई की ओर से जारी ज्वाइंट स्टेटमेंट में कहा गया कि भारतीय बोर्ड और सीए ने मिलकर मौजूदा सीरीज पर पूरा ध्यान वापस केंद्रित करने का फैसला किया है और इसी को ध्यान में रखते हुए बेंगलुरु टेस्ट में डीआरएस को लेकर जो विवाद पैदा हुआ उस मामले को सुलझा लिया है।
- ऑफिशियल स्टेटमेंट के मुताबिक, बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी और सीए के सीईओ जेम्स सदरलैंड ने मुंबई स्थित भारतीय बोर्ड के मुख्यालय पर इस सिलसिले में गुरुवार को मुलाकात की थी और लंबी चर्चा के बाद दोनों बोर्ड इस नतीजे पर पहुंचे कि फिलहाल दोनों देशों के बीच सीरीज की अहमियत को समझते हुए पूरा ध्यान विवाद के बजाय खेल पर केंद्रित करना चाहिए।